Republic Day 2024: 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? जानें (इतिहास और महत्व)

26 January Ko Kya Hua tha : 26 जनवरी को भारत में संविधान को लागू किया तक किया गया था। 15 अगस्त 1947 को भारत आज़ाद हुआ। आज़ादी मिलने के बाद भी भारत का संविधान लिखने में ढाई साल लग गए। भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था। तब से हर साल 26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।भारत में गणतंत्र दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस दिन भारत के राष्ट्रपति कर्तव्य पथ, नई दिल्ली में झंडा फहराते हैं। उसके बाद, वार्षिक परेड कर्तव्य पथ से शुरू होती है और इंडिया गेट पर समाप्त होती है। हम गणतंत्र दिवस पर देश की आजादी के लिए लड़ने वाले वीर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हैं। भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक पद्म पुरस्कार की घोषणा गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर की जाती है।

इस दिन पूरे देश में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम और सार्वजनिक उत्सव होते हैं। गणतंत्र दिवस सभी भारतीयों के लिए देशभक्ति और गौरव का दिन है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रकार के रंगारंग कार्यक्रम स्कूलों में आयोजित किए जाते हैं जहां पर छात्र सम्मिलित होकर गणतंत्र दिवस को काफी उमंग और उत्साह के साथ मनाते हैं। ऐसे में लोगों के मन में  सवाल आता है कि 26 January ko Kya Hua Tha गणतंत्र दिवस कब और क्यों मनाया जाता है | Republic Day Kab Manaya Jata Hai भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को ही क्यों लागू हुआ

पहली बार गणतंत्र दिवस कब मनाया गया 26 January Kyu Manaya Jata Hai इन सभी सवालों का जवाब आज के लेख 26 January Kyu Manaya Jata Hai के माध्यम से आपको प्रदान करेंगे आर्टिकल पर आखिर तक बने रहिएगा:- 

गणतंत्र दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? Republic Day Kab Manaya Jata Hai 

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है 26 जनवरी 1950 को भारत में संविधान को लागू किया गया था तभी से भारत में 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। 26 जनवरी 1950 को, भारत को एक संप्रभु, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी और लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित किया गया था जिसका अर्थ है कि भारत के लोगों के पास देश के लिए सरकार चुनने की शक्ति है यह भारत के राष्ट्रपति की उपस्थिति में राजपथ, नई दिल्ली में विशेष परेड के साथ एक प्रमुख कार्यक्रम आयोजित करके राष्ट्रीय ध्वज फहराकर और राष्ट्रगान गाकर मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर स्कूल विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। छात्र इन प्रोग्रामर में बड़े जोश और उत्साह के साथ भाग लेते हैं। सभी शैक्षणिक संस्थानों में निबंध लेखन, भाषण, ड्राइंग और पेंटिंग आदि जैसी विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। छात्र स्वतंत्रता सेनानियों के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को दर्शाने वाले नाटक और लघु नाटिकाएँ भी आयोजित करते हैं। उन प्रतियोगिताओं में अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को पुष्कृत किया जाता है। 

संविधान कितने दिन में तैयार हुआ (In How Many Days was the Constitution Prepared)

भारत के संविधान के निर्माण में 2 साल 11 महीने और 18 दिन लगे थे। जिसे 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा के द्वारा पारित कर दिया गया भारतीय संविधान में कुल  22 भाग, 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियां थीं। वर्तमान समय में संविधान में 25 भाग, 470 अनुच्छेद एवं 12 अनुसूचियां हैं। 

भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को ही क्यों लागू हुआ

भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को ही क्यों लागू किया गया है इसके पीछे की सबसे प्रमुख वजह है कि जब वर्ष 1929 में, लाहौर में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बैठक के दौरान ‘पूर्ण स्वराज’ या पूर्ण स्वतंत्रता की मांग की गई और 26 जनवरी 1930 को ‘पूर्ण स्वराज दिवस’ के रूप में घोषित करने का प्रस्ताव पारित किया गया था इसके बाद जब  20 वर्षों के बाद, जब संविधान सभा संविधान लागू करने की तारीख को अंतिम रूप दे रही थी, तो उन महान नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित करने के लिए, जिन्होंने सबसे पहले ‘पूर्ण स्वराज’ की मांग की थी, और भारत का संविधान बनाने के लिए सर्वसम्मति से 26 जनवरी का दिन तय किया गया था। सत्ता में आना पूर्णतः स्वतंत्र होने की पूर्णता थी।

पहली बार गणतंत्र दिवस कब मनाया गया था?

भारत का पहला गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 1950 को मनाया गया था। भारत  के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने दिल्ली के इरविन स्टेडियम (अब मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम) में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और उसके बाद राष्ट्रगान गाया। पहले गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि इंडोनेशिया के राष्ट्रपति डॉ. सुकर्णो और उनकी पत्नी थे। डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने सशस्त्र बलों की सलामी ली और इस ऐतिहासिक घटना को 15000 से अधिक लोगों ने देखा। तभी से भारत में गणतंत्र दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुई 

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है (26 January Kyu Manaya Jata Hai)

26 जनवरी भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन भारत में संविधान को लागू किया गया था। भारतीय संविधान को बनाने में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की भूमिका अहम थी उन्हें संविधान का जनक भी कहा जाता हैं।  

निष्कर्ष (Conclusion):

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में

FAQ’s: Republic Day Celebrated 2024

Q.26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है? 

Ans. 26 जनवरी को देश के प्रथम नागरिक यानी देश के महामहिम राष्ट्रपति दिल्ली के कर्तव्य पथ पर जाकर ध्वजा रोहण करते हैं।  इसके अलावा उन सभी वीर सेनानियों को  श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।  जिन्होंने देश के आजादी के लिए अपना प्राण निछावर कर दिया था। 

Q. गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है? Gantantra Diwas Kab Manaya Jata Hai

Ans . गणतंत्र दिवस प्रत्येक साल 26 जनवरी को मनाया जाता है इस दिन देश भर के विभिन्न जगहों पर कई प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

26 जनवरी क्यों मनाया जाता है | 26 january Kyu Banaya Jata Hai?

Ans. 26 जनवरी क्यों मनाया जाता है इसके पीछे की वजह है कि इस दिन भारत में संविधान को लागू किया गया था। तभी से 26 जनवरी भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। 

Leave a Comment