Mukhymantri Mahila Sashaktikaran Yojana 2024 : अब महिलाएं भी होगी सशक्त, मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना के तहत मिलेगा  रोजगार, जाने कैसे?

Mukhymantri Mahila Sashaktikaran Yojana : कई सालो से देखा जा रहा है कि महिलाओं के साथ हिंसा के मामले थम नहीं रहे है।महिलाओं कई तरह की हिंसा का शिकार हो ही रही है और जब उनके साथ हिंसा होती है तब उनकी सहायता के लिए कोई अपने कदम आगे नहीं बढ़ाता है। वहीं जीवन यापन के कोई सोर्स नहीं होने के कारण उन्हें चुपचाप हो रही हिंसा को सहन करना होता है क्योंकि वह आर्थिक रुप से भी सक्षम नहीं होती है जो उनके साथ हो रहे दुर्व्यवहार का वह जवाब दे सकें। उल्लेखनिय है कि महिलाएं जो देश के निर्माण में बहुत अहम भूमिका निभाती है. ऐसे में उनके साथ हो रहे दुर्व्यवहार को रोकने का जिम्मा अब सरकार ने अपने हाथ में ले लिया हैं।

मध्यप्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना की शुरुआत की गई है जिसके तहत महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कई तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाएं जाएंगे, जिससे वह अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर सकेंगी। हम आपको इस लेख में इस योजना से जुडी सभी जरुरी जानकारी उपलब्ध कराएंगे, अगर आपको इस योजना के बारे में सब कुछ जानना है तो इस लेख को पूरा जरुर पढ़े। 

Also Read: एमपी लखपति बहना योजना के तहत मिलेंगे सालाना इतने लाख रुपए

क्या है मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना

मध्य प्रदेश (एमपी) सरकार द्वारा शुरू की गई “मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना” का उद्देश्य महिलाओं को सशक्त बनाना और उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है। इस योजना के तहत राज्य सरकार विभिन्न उपायों और कार्यक्रमों के माध्यम से महिलाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, और सामाजिक सुरक्षा में सुधार लाने का प्रयास करती है।महिलाओं के लिए हेल्पलाइन सेवाएँ और संकट प्रबंधन केंद्र।घरेलू हिंसा और उत्पीड़न के खिलाफ कानूनी सहायता।महिला पुलिस थानों और विशेष सुरक्षा बलों की स्थापना। इस योजना का उद्देश्य महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों में सक्षम और आत्मनिर्भर बनाना है, जिससे वे समाज में समान अवसर और सम्मान प्राप्त कर सकें। योजना के तहत महिलाओं के समग्र विकास के लिए राज्य सरकार द्वारा कई प्रयास किए जाते हैं, जिससे महिलाओं का सामाजिक और आर्थिक स्तर बेहतर हो सके।

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना का उद्देश्य

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को समाज में बराबरी का स्थान दिलाना और उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है। इस योजना के तहत विभिन्न उपाय और कार्यक्रमों के माध्यम से महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों में सशक्त बनाया जाता है। महिलाओं और लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देना, उनके लिए छात्रवृत्तियों की व्यवस्था करना, और शिक्षा के माध्यम से उन्हें जागरूक बनाना। महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करना, स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित करना, और उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाना। इसके तहत महिलाओं को कौशल विकास कार्यक्रमों, स्वरोजगार योजनाओं और ऋण सुविधाओं का लाभ दिया जाता है।महिलाओं के स्वास्थ्य की देखभाल करना, विशेष रूप से मातृत्व स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार करना और उन्हें निःशुल्क स्वास्थ्य सेवाएँ प्रदान करना।महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करना, उनके लिए कानूनी सहायता और हेल्पलाइन सेवाओं का प्रावधान करना, और महिलाओं के खिलाफ हिंसा और उत्पीड़न को रोकने के लिए उपाय करना।महिलाओं के सामाजिक अधिकारों की रक्षा करना, उन्हें समाज में समान अवसर और सम्मान दिलाना, और सामाजिक रूढ़ियों और भेदभाव को समाप्त करना।

Also Read: एमपी गांव की बेटी योजना

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना लाभ

  • आपात स्थितियों में महिलाओं की मदद करना। 
  • पीड़ित महिलाओं का पुनर्वास करना |
  • महिलाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करना। 
  • महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना। 
  • महिलाओं के सामाजिक, आर्थिक और शैक्षिक स्तर को ऊपर उठाना।”
  • पीड़ित/पीड़ित/असहाय/बेसहारा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाकर समाज की मुख्यधारा में पुनर्वासित करना।

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना पात्रता

  • लाभार्थी महिला योजना के लिए पात्र तब होगी जब वह पीड़ित की श्रेणी में आती हो |
  • जेल से रिहा हुई महिलाएँ
  • सरकारी और गैर-सरकारी आश्रय गृहों, बालिका गृहों, भरण-पोषण गृहों आदि में रहने वाली पीड़ित लड़कियाँ/महिलाएँ
  • दहेज पीड़ित/अग्निकांड पीड़ित
  • बाल विवाह पीड़ित
  • हस योजना के लिए वह महिला पात्र नहीं होगी जो मानसिक रूप से परेशान या पागल है |
  • योजना का लाभ लेने वाली महिला की उम्र 45 साल से कम होना चाहिए। वहीं अगर विधवा , परित्यक्ता , तलाकशुदा St , sc वर्ग की महिलाए इस योजना का लाभ लेना चाहती है उनकी उम्र 50 साल तक मान्य होगी |
  • योजना के तहत आवेदिका या फिर उसके परिवार का मुखिया गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहा हो |
  • आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जो आवेदक अनपढ़ या कम पढ़ी लिखी है तो  उन महिलाओ को उनकी योग्यता अनुसार प्रशिक्षण दिया जाएगा |

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना दस्तावेज

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. राशन कार्ड
  4. मोबाइल नंबर
  5. फोटो
  6. बैंक पासबुक
  7. शैक्षणिक दस्तावेज

Also Readऐसे देखें अपने गांव का नक्शा जाने आसान प्रक्रिया

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना आवेदन

जिन महिलाओं को इस योजना का लाभ लेना है उनको सबसे पहले अपने नजीदक के महिला बाल विकास विभाग दफ्तर में संपर्क करना होगा।वहीं अधिकारियों द्वारा मांगे गए और ऊपर बताए गए सभी जरुरी दस्तावेज आपको ऑफिस में जमा करने होंगे।महिलाएं अपने आवदेन के बाद अपन रुचि अनुसर प्रशिक्षण के विकल्प को चुन सकती है। जैसे सी आवेदन स्वीकृत होता है वैसे ही महिलाओं को उनके द्वारा चुने गए प्रशिक्षण के लिए भेज दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना के प्रशिक्षण

  • फार्मेसी -ब्यूटिशियन,होटल/ ईवेन्ट मैनेजमेंट
  • नर्सिग -शार्ट टर्म मैनेजमेंट कोर्स (कुकिंग/बैंकिंग),प्रयोगशाला सहायक
  •  फिजियोथेरपी -आई.टी.आई./पॉलीटेक्निक कोर्स,बी.एड/डी.एड

Conclusion:

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा लिखा गया ये लेख आपको पसंद आया होगा। अगर आपको हमारे लेख से जुड़े किसी भी प्रकार के प्रश्न है या फिर आप किसी तरह का सुझाव हमे देना चाहते है, तो आप कॉमेंट बॉक्स में अपना सवाल या सुझाव जरुर दर्ज करें। हमारी कोशिश रहेगी कि आपके सभी सवालों के जवाब जल्द दे सकें। आगे ऐसे और लेख पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट https://yojanadarpan.in/ पर रोज़ाना विज़िट करें।

Leave a Comment