Name Correction in Khatauni 2024 | खसरा खतौनी में नाम संशोधन कैसे करें? यहां जाने आसान प्रक्रिया

Name Correction in Khatauni : खसरा खतौनी से संशोधन नाम कैसे करें?: Name Correction in Khasra Khatauni: यह बात हम सभी बड़ी-बड़ी जानते हैं कि वर्तमान समय में यह काफी जरूरी हो चुका है कि हमारे सभी दस्तावेज सटीक रूप से तैयार रहें और उनमें कोई गलती ना हो क्योंकि दस्तावेज में मौजूद छोटी से छोटी गलती हमारे बड़े से बड़े काम अटका सकती है। अगर आप किसी जमीन के मालिक हैं तो आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि आपकी जमीन से जुड़े हुए Land Record Document बिल्कुल सटीक हो और उनमें गलती ना हो। अगर आपके खसरा खतौनी में नाम में (Khatauni Me Name Correction) कोई दिक्कत है तो आपको उसे ठीक करना चाहिए। अगर आपको नहीं पता कि ‘खसरा खतौनी से नाम संशोधन कैसे करें’ (Name Correction in Khatauni) तो यह लेख पूरा पढ़े।

खसरा खतौनी में संशोधन की प्रक्रिया – Name Correction in KhatauniOverview

आर्टिकल का प्रकारसरकारी पोर्टल/ऑनलाइन सुविधा
लेख (Article Name)खसरा खतौनी में संशोधन की प्रक्रिया
साल (Year) 2024
राज्य (State)उत्तर प्रदेश
Circle Rate in UP यहां देखें
रजिस्ट्री की जानकारी उत्तर प्रदेश (Registery Details)यहां देखें
उत्तर प्रदेश सर्किल रेट (Circle Rate)यहां देखें
UP भू भूलेख पोर्टलhttps://upbhulekh.gov.in/
UP भू नक्शायहां देखें

Name Correction in Khatauni Possible – क्या खसरा खतौनी में संशोधन सम्भव है?

खतौनी में नाम संशोधन Online: यह बात हम सभी भली-भांति जानते हैं कि हमारे देश में वर्तमान समय में कृषि मुख्य उद्योग में से एक है तो ऐसे में वैसे करने वाले लोग अर्थात किसान अपनी जमीन के दस्तावेजों को लेकर काफी सतर्क रहते हैं और उसके अलावा क्योंकि वर्तमान समय में रियल एस्टेट का बाजार भारत में लगातार बढ़ता ही जा रहा है तो अक्सर जमीनों से संबंधित डॉक्यूमेंट या फिर कहा जाए तो दस्तावेज पूरी तरह से तैयार रहना जरूरी है ताकि कोई भी काम करने पर आपको किसी तरह की कोई समस्या ना आए। कई बार ऐसा होता है जब हमारे Land Record Documents, में गलतियां रहती है और हम उनका करेक्शन नहीं करवाते तो आपातकालीन समय पर भी हमारे काम अटक जाते हैं।

यह बात हम सभी सटीक रूप से समझते हैं कि जमीन संबंधित दस्तावेज हमेशा तैयार रहना चाहिए और उन्हें कोई गलती नहीं रहनी चाहिए परंतु अगर गलती होगी जाए तो वह गलती हमें कोई काम आने से पहले ही ठीक करवा कर रखनी चाहिए। अगर आपके खसरा खतौनी में कोई समस्या है या फिर आपके खसरा खतौनी में नाम की दिक्कत है तो ऐसे में आप उसको सही जरूर करना चाहोगे। अगर आपके दिमाग में यह सवाल है कि क्या खसरा खतौनी में संशोधन संभव है या फिर क्या Khasra Khatauni Me Name Correction हो सकता है तो बता दे की यह पूरी तरह से संभव है।

Required Documents for Name Correction in Khatauni – खसरा खतौनी के लिए जरूरी दस्तावेज

जैसा कि आप यह बात जानते ही हैं कि सामान्य तौर पर दस्तावेजों में मौजूद गलतियों को ठीक करवाने के लिए कुछ अन्य दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है तो ऐसे में क्योंकि हम इस लेख में Khasra Khatauni (खतौनी में नाम संशोधन) में नाम के संशोधन के बारे में बात कर रहे हैं तो ऐसे में आपको खसरा खतौनी के संशोधन अर्थात ‘Name Correction in Khatauni’ के लिए जरूरी दस्तावेजो के बारे में पता होना चाहिए। अगर आप नहीं जानते कि खसरा खतौनी के लिए जरूरी दस्तावेज कौन-कौन से हैं तथा नाम से खतौनी कैसे निकाले तो जानकारी के लिए बता दे की जो दस्तावेज उत्तर प्रदेश भूलेख, खसरा खतौनी, गाटा संख्या, जमीन का क्षेत्रफल, भू नक्शा, जमीन की दिशाएं के लिए जरूरी है, वह कुछ इस प्रकार है:

  • 2 पासपोर्ट साइज फोटो
  • आधिकारिक पहचान पत्र जैसे की आधार कार्ड या पैन कार्ड
  • स्टाम्प पेपर पर हलफनामा
  • पत्र जिसमे कहा गया हो की हार्ड कॉपी या सॉफ्ट कॉपी में दी गयी जानकारी सही है
  • उच्च अधिकारियो के आवेदन
  • दो दावेदारों द्वारा प्रिंट में हस्ताक्षर किया गया परिभाषित प्रदर्शन कर्तव्य

Name Correction in Khatauni – खसरा खतौनी से संशोधन कैसे करें

इस लेख में हम Name Correction in Khatauni अर्थात खसरा खतौनी जो की जमी नसे जुड़े हुए महत्वूर्ण और आवश्यक दस्तावेज है, में नाम के सुधार की प्रक्रिया के बारे में बात कर रहे है। इससे संबंधित काफी जानकारी हम आपको लेख में दे चुके है और यह भी बता चुके है की ‘Name Correction in Khatauni’ की प्रक्रिया में आपको किन किन दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी। तो अब आखिर में यह सवाल आता है की आखिर ‘खसरा खतौनी से संशोधन कैसे करें’ तो जानकारी के लिए बता दे की इसके लिए आपको एक विशेष प्रक्रिया का अनुसरण करना होगा, जो कुछ इस प्रकार है:

  • अगर आप Khasra Khatauni Documents में सुधार करना चाहते हो या फिर कहा जाए तो संबंधित जमीन के मालिक का नाम ठीक करना चाहते हो तो उसके लिए सबसे पहले किसान का या फिर कहा जाए तो जमीन के मालिक का हलफनामा तैयार किया जाए।
  • एक बार जब जमीन के मालिक अर्थात किसान का हलफनामा तैयार कर दिया जाएगा तो उसके बाद उसे प्रिंट मीडिया के द्वारा प्रकाशित करना होता है जिससे कि सामाजिक तौर पर पता लग सके की दस्तावेज में नाम गलत अंकित है।
  • इसके बाद विज्ञापन की एक प्रति को संबंधित विभाग में भेजना होता है और साथ ही सभी दस्तावेज जो कि मांगे जाते हैं वह भी भेज में होते हैं जिससे की प्रक्रिया आगे बढ़ सके और तेजी से आपका नाम दस्तावेजों बदला जा सके।
  • इसके बाद भूमि पंजीकरण कार्यालय में जाकर अपने दावे को स्पष्ट रूप में प्रस्तुत करना होता है और विभाग के द्वारा बताई जाने वाली प्रक्रिया का अनुसरण करना होता है जिससे की प्रक्रिया आगे बढ़ सके।
  • यह सारे काम पूरा होने के बाद भूमि पंजीकरण विभाग और संबंधित विभाग के द्वारा आपके दस्तावेज में आपका नाम बदल दिया जाता है अर्थात खसरा खतौनी में जमीन के मालिक का सही नाम अंकित कर दिया जाता है।
  • इस तरह से देहरी आसानी से ऊपर बताए गए स्टेप्स का अनुसरण करते हुए खसरा खतौनी में संशोधन अर्थात Name Correction in Khatauni किए जाते हैं और अगर प्रक्रिया को सटीक रूप से बोलो किया जाए तो यह इतना मुश्किल भी नहीं हो।

अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट:

1.यूपी बैनामा की नकल ऑनलाइन कैसे देखे?
2.खातेदार के नाम पर कितनी जमीन है? ऑनलाइन कैसे पता करे?
3.ऐसे देखें जमीन का पुराना रिकॉर्ड

FAQs: Name Correction in Khatauni

प्रश्न: क्या Khasra Khatauni में खातेदार का नाम बदला जा सकता है?

उत्तर: अगर आपके खसरा खतौनी दस्तावेज में खातेदार का नाम गलत है तो ऐसे में आप उसे बताई गई प्रक्रिया का अनुसरण करके बदल सकते हैं अर्थात यह संभव नहीं है।

प्रश्न: खसरा खतौनी में खातेदार का नाम बदलने के लिए क्या करना होगा?

उत्तर: खसरा खतौनी में खातेदार का नाम बदलने के लिए आपको एक विशेष प्रक्रिया का अनुसरण करना होगा और आपके पास सभी संबंधित जरूरी दस्तावेज भी होने चाहिए।

प्रश्न: खसरा खतौनी में खातेदार का नाम बदलने में कितना समय लगता है?

उत्तर: खसरा खतौनी में Khasra Me Name Change करने में अधिक समय नहीं लगता है और कुछ सप्ताह में ही आपका पूरा काम हो जाता है और कई बार उससे भी काफी जल्दी।

प्रश्न: क्या खसरा खतौनी में खतरा का नाम ऑनलाइन बदला जा सकता है?

उत्तर: कई राज्यों के पोर्टल पर इस तरह की सुविधाएं दी गई है परंतु हर जगह यह सुविधा उपलब्ध नहीं है तो ऐसे में अधिकतर लोग यह कार्य ऑफलाइन ही करते हैं।

Leave a Comment