Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi 2024: इस लेख में पाएं एक से बढ़कर एक कोट्स, स्लोगन, विचार हिंदी में

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi 2024:- भारत के स्वतंत्रता आंदोलन (Freedom Movement) में एक प्रमुख व्यक्ति, नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) को उनके प्रसिद्ध नारे “तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा” के लिए याद किया जाता है। सुभाष चंद्र बोस का जन्म प्रभावती दत्त बोस और जानकीनाथ बोस, जो एक कायस्थ परिवार से थे। वह 14 बच्चों वाले परिवार में नौवें थे। 16 साल की उम्र में बोस स्वामी विवेकानन्द और रामकृष्ण की रचनाएँ पढ़ने के बाद उनकी शिक्षाओं से बहुत प्रभावित थे। उनका झुकाव अपनी पढ़ाई से अधिक महत्वपूर्ण अपने धर्म की ओर था। उनके गुरु चितरंजन दास (Guru Chittaranjan Das) थे जो बंगाल में आक्रामक राष्ट्रवाद के प्रवक्ता थे। उन्होंने भारत में स्वराज जैसे कई समाचार पत्र शुरू किये। इसके अलावा, वह समाचार पत्र “फॉरवर्ड” के संपादक थे, जिसकी स्थापना उनके गुरु ने की थी। बोस ने जापानियों के सहयोग से भारतीय राष्ट्रीय सेना (INA) को पुनर्जीवित किया, जिसमें ब्रिटिश भारतीय सेना के भारतीय सैनिक शामिल थे जिन्हें सिंगापुर की लड़ाई में पकड़ लिया गया था। बोस की अध्यक्षता में स्वतंत्र भारत की अस्थायी सरकार का गठन जापान के कब्जे वाले अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में किया गया था। सुभाष के नेतृत्व में आईएनए क्षेत्र, जातीयता, धर्म और यहां तक कि लिंग के आधार पर विविधता का एक मॉडल था।

ऐसे कई टिकट जारी किए गए हैं जिन पर बोस को 1964, 1993, 1997, 2001, 2016 और 2018 तक भारत में चित्रित किया गया है। कोलकाता में एक हवाई अड्डे का नाम उनके नाम पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में रखा गया है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वीप, पूर्व में रॉस द्वीप और भारत में कई अन्य संस्थानों का नाम उनके नाम पर रखा गया है।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु कई लोगों के लिए आश्चर्य की बात थी क्योंकि यह पूरी तरह से अप्रत्याशित थी। उनकी मृत्यु 18 अगस्त 1945 को जापानी शासित फॉर्मोसा (अब ताइवान) में उनके अतिभारित जापानी विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद थर्ड-डिग्री जलने से हुई थी। यहां सुभाष चन्द्र बोस के कोट्स (Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi), सुभाष चन्द्र बोस के स्लोगन (Subhash Chandra Bose Slogan), सुभाष चन्द्र बोस के विचार (Subhash Chandra Bose Thoughts) इत्यादि के बारे में और जानें।

50+सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल वचन (Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi)

“एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक प्रशिक्षण दोनों की आवश्यकता होती है।” -सुभाष चंद्र बोस

“मनुष्य, धन और सामग्रियाँ स्वयं विजय या स्वतंत्रता नहीं ला सकतीं। हमारे पास वह प्रेरणा-शक्ति होनी चाहिए जो हमें बहादुर कार्यों और वीरतापूर्ण कारनामों के लिए प्रेरित करेगी। -सुभाष चंद्र बोस

“तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।”

“एक व्यक्ति किसी विचार के लिए मर सकता है, लेकिन वह विचार, उसकी मृत्यु के बाद, हजारों लोगों के जीवन में अवतरित होगा।” -सुभाष चंद्र बोस

“मुझे जीवन में एक निश्चित लक्ष्य पूरा करना है। मैं उसी के लिए पैदा हुआ हूं. मैं नैतिक विचारों की धारा में नहीं पड़ना चाहता।” -सुभाष चंद्र बोस

“निस्संदेह, बचपन और युवावस्था में पवित्रता और संयम आवश्यक है।” -सुभाष चंद्र बोस

“मैं जीवन की अनिश्चितता से बिल्कुल भी नहीं डरता।” -सुभाष चंद्र बोस

“भविष्य अभी भी मेरे हाथ में है।” -सुभाष चंद्र बोस

“इतिहास में कोई भी वास्तविक परिवर्तन चर्चाओं से कभी हासिल नहीं हुआ है।” -सुभाष चंद्र बोस

“याद रखें कि सबसे बड़ा अपराध अन्याय और ग़लत के साथ समझौता करना है।” -सुभाष चंद्र बोस

“यदि संघर्ष न हो – जोखिम न उठाया जाए तो जीवन अपना आधा हित खो देता है।” -सुभाष चंद्र बोस

“यह केवल खून ही है जो स्वतंत्रता की कीमत चुका सकता है। तुम मुझे खून दो मेँ tumhe आजादी दूंगा!” -सुभाष चंद्र बोस

“राष्ट्रवाद मानव जाति के उच्चतम आदर्शों, सत्यम [सत्य], शिवम [भगवान], सुंदरम [सुंदर] से प्रेरित है।” -सुभाष चंद्र बोस

“ग़ुलाम बने लोगों के लिए, मुक्ति की सेना में पहला सैनिक होने से बड़ा कोई गौरव, कोई बड़ा सम्मान नहीं हो सकता।” -सुभाष चंद्र बोस

“आप मेरी मानसिक स्थिति को आसानी से समझ जाएंगे क्योंकि मैं उस दहलीज पर खड़ा हूं जिसे आम आदमी एक आशाजनक करियर कहेगा।” -सुभाष चंद्र बोस

Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

“आज़ादी दी नहीं जाती, ली जाती है।” -सुभाष चंद्र बोस

“मेरे जीवन का एक अनुभव यह भी है कि मुझे आशा है कि कोई न कोई किरण मुझे बचा लेगी और मुझे जीवन से भटकने नहीं देगी।” -सुभाष चंद्र बोस

“यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी आज़ादी की कीमत अपने खून से चुकाएँ। जिस आज़ादी को हम अपने बलिदान और परिश्रम से हासिल करेंगे, उसे हम अपनी ताकत से बरकरार रखने में सक्षम होंगे।” -सुभाष चंद्र बोस

“आखिरकार, वास्तविकता हमारी कमज़ोर समझ के लिए बहुत बड़ी है जिसे पूरी तरह से समझा नहीं जा सकता। फिर भी, हमें अपना जीवन उस सिद्धांत पर बनाना है जिसमें अधिकतम सत्य हो।” -सुभाष चंद्र बोस

“जो सैनिक हमेशा अपने राष्ट्र के प्रति वफादार रहते हैं, जो हमेशा अपने जीवन का बलिदान देने के लिए तैयार रहते हैं, वे अजेय हैं।” -सुभाष चंद्र बोस

“संघर्ष ने मुझे इंसान बनाया है। मुझमें आत्मविश्वास आया, जो पहले नहीं था।” -सुभाष चंद्र बोस

“मुझमें जन्मजात प्रतिभा नहीं थी, लेकिन कड़ी मेहनत से बचने की प्रवृत्ति मुझमें कभी नहीं थी।” -सुभाष चंद्र बोस

“जीवन में प्रगति का अर्थ है कि संदेह उत्पन्न होते रहें और उन्हें हल करने का प्रयास करने की प्रक्रिया जारी रहे।” -सुभाष चंद्र बोस

“जब हम खड़े होते हैं, तो आज़ाद हिंद फ़ौज को ग्रेनाइट की दीवार की तरह होना पड़ता है; जब हम मार्च करते हैं, तो आज़ाद हिंद फ़ौज को स्टीमरोलर की तरह होना पड़ता है। -सुभाष चंद्र बोस

“मैं मुसीबतों और विपत्तियों से नहीं डरता। संकट का दिन आने पर भी मैं भागूंगा नहीं, बल्कि आगे बढ़ूंगा और संकट सहूंगा।” -सुभाष चंद्र बोस

“समझौता सबसे बड़ी अपवित्र चीज़ है।” -सुभाष चंद्र बोस

“हम संघर्षों और उनके समाधानों के माध्यम से आगे बढ़ते हैं।” -सुभाष चंद्र बोस

“विश्वास की कमी ही सभी परेशानियों और दुखों की जड़ है।” -सुभाष चंद्र बोस

“जब हम खड़े होते हैं, तो आजाद हिंद फौज को ग्रेनाइट की दीवार की तरह होना पड़ता है; जब हम मार्च करते हैं, तो आज़ाद हिंद फ़ौज को स्टीमरोलर की तरह होना पड़ता है। -सुभाष चंद्र बोस

“सफल होने के लिए आपको अकेले चलना होगा।” जब आप सफल होते हैं तो लोग आपके साथ आते हैं।” -सुभाष चंद्र बोस

“एक व्यक्ति एक विचार के लिए मर सकता है, लेकिन वह विचार, उसकी मृत्यु के बाद, हजारों व्यक्तियों के जीवन में अवतार लेता है।” -सुभाष चंद्र बोस

“आजादी मांगने से नहीं, छीनने से मिलेगी।” -सुभाष चंद्र बोस

“कर्म बंधन को तोड़ना बहुत कठिन कार्य है।” -सुभाष चंद्र बोस

“मैंने अपने छोटे से जीवन में व्यर्थ में बहुत सारा समय बर्बाद किया है।” -सुभाष चंद्र बोस

“आज हमारी केवल एक ही इच्छा होनी चाहिए – मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके। एक शहीद की मौत मरने को तैयार हूं ताकि शहीदों के खून से आजादी का रास्ता प्रशस्त हो सके।” -सुभाष चंद्र बोस

“इतना कि आपको भी यकीन हो जाएगा कि एक दिन मैं जेल से जरूर आजाद होऊंगा, क्योंकि हर दुख का अंत होना तय है।” -सुभाष चंद्र बोस

“माँ का प्यार सबसे गहरा है, निःस्वार्थ है। इसे किसी भी तरह से मापा नहीं जा सकता।” -सुभाष चंद्र बोस

“अच्छे विचारों से कमजोरियाँ दूर हो जाती हैं, हमें सदैव अपनी आत्मा को उच्च विचारों से प्रेरित करते रहना चाहिए।” -सुभाष चंद्र बोस

“आप जो कुछ भी करते हैं, वह आपका कर्म है। इसमें किसी भी तरह का कोई बंटवारा नहीं है. तुम्हें इसका फल भी भोगना पड़ेगा।” -सुभाष चंद्र बोस

“राजनीतिक सौदेबाजी की कूटनीति आपके मुकाबले अधिक शक्तिशाली दिखने के लिए है।” -सुभाष चंद्र बोस

“भारतीय सेना का निर्माण पूर्ण राष्ट्रवाद, पूर्ण न्याय और निष्पक्षता के आधार पर ही किया जा सकता है।” -सुभाष चंद्र बोस

“केवल खून ही स्वतंत्रता की कीमत चुका सकता है।” -सुभाष चंद्र बोस

“शाश्वत नियम याद रखें -: यदि आप कुछ पाना चाहते हैं, तो आपको कुछ देना होगा।” -सुभाष चंद्र बोस

“इतना कि आपको भी यकीन हो जाएगा कि एक दिन मैं जेल से जरूर आजाद होऊंगा, क्योंकि हर दुख का अंत होना तय है।”

“ग़ुलाम लोगों के लिए आज़ादी की सेना में प्रथम सैनिक होने से बड़ा कोई सम्मान नहीं हो सकता।”

“सफल होने के लिए, आपको अकेले चलना होगा। जब आप सफल होते हैं तो लोग आपके साथ आते हैं।”

“अच्छे विचारों से कमज़ोरियाँ दूर हो जाती हैं; हमें सदैव अपनी आत्मा को उच्च विचारों से प्रेरित करते रहना चाहिए।”

“ग़ुलाम लोगों के लिए आज़ादी की सेना में प्रथम सैनिक होने से बड़ा कोई सम्मान नहीं हो सकता।” -सुभाष चंद्र बोस

“आप मेरी मानसिक स्थिति को आसानी से समझ जाएंगे क्योंकि मैं उस दहलीज पर खड़ा हूं जिसे आम आदमी एक आशाजनक करियर कहेगा।”

“मैं मुसीबतों और विपत्तियों से नहीं डरता। संकट का दिन आने पर भी मैं भागूंगा नहीं, बल्कि आगे बढ़ूंगा और संकट सहूंगा।”

Also Read: गणतंत्र दिवस 2024 स्टेटस हिंदी में

सुभाष चंद्र बोस स्लोगन हिंदी में (Subhash Chandra Bose Slogan In Hindi)

जय हिंद: शायद सुभाष चंद्र बोस के सभी नारों में सबसे प्रतिष्ठित और स्थायी, जय हिंद एक युद्ध घोष है जो भारतीयों के दिलों में गूंजता रहता है। यह किसी के देश के प्रति उत्कट और अटूट प्रेम को दर्शाता है।

दिल्ली चलो: द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बोस ने बर्मा में अंग्रेजों के खिलाफ भारतीय राष्ट्रीय सेना (आईएनए) का नेतृत्व किया, उन्होंने भारत को आजाद कराने के अपने दृढ़ संकल्प को दर्शाने के लिए अपने सैनिकों से दिल्ली चलो (दिल्ली मार्च) के नारे के साथ आग्रह किया।

तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा: इस शक्तिशाली नारे का अर्थ है तुम मुझे खून दो, और मैं तुम्हें आजादी दूंगा। यह बोस की बलिदान देने की तत्परता और इस उद्देश्य के प्रति पूरे दिल से समर्पण के उनके आह्वान का प्रतीक है।

दिल्ली चलो, चलें गांधी को ललकार (मार्च टू दिल्ली, चैलेंज गांधी): बोस का दिल्ली मार्च करने का आह्वान ब्रिटिश अधिकारियों और उस समय के प्रमुख भारतीय राजनीतिक नेताओं के लिए एक सीधी चुनौती थी।

चलो दिल्ली चलें और करो त्याग (आओ दिल्ली चलें और बलिदान दें): बोस ने स्वतंत्रता के लिए बलिदान और प्रतिबद्धता की आवश्यकता पर जोर दिया।

सत्याग्रह पर्याप्त नहीं है, हमें बल की आवश्यकता है: यह नारा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अहिंसक तरीकों के प्रति बोस की बढ़ती अधीरता और सशस्त्र प्रतिरोध की आवश्यकता में उनके विश्वास को दर्शाता है।

एकता ही ताकत है: बोस ने स्वतंत्रता के संघर्ष में एकता के महत्व को पहचाना, और उन्होंने अक्सर भारतीय लोगों की सामूहिक ताकत की याद दिलाने के रूप में इस नारे पर जोर दिया।

स्वतंत्रता दी नहीं जाती, ली जाती है: स्वतंत्रता की सक्रिय खोज में बोस का विश्वास इस नारे में संक्षेप में व्यक्त किया गया है, जो औपनिवेशिक उत्पीड़न के खिलाफ सक्रिय प्रतिरोध की आवश्यकता पर प्रकाश डालता है।

तुम बुझाओ, हम आएंगे: यह नारा यह विचार व्यक्त करता है कि भले ही अंग्रेज स्वतंत्रता आंदोलन को दबाने की कोशिश करेंगे, प्रतिरोध की भावना बनी रहेगी और तीव्र होगी।

इत्तेफाक, एत्माद, कुर्बानी (एकता, विश्वास, बलिदान): ये तीन सिद्धांत स्वतंत्रता आंदोलन के लिए बोस के दृष्टिकोण की नींव थे, जो एकता, विश्वास और बलिदान के महत्व पर जोर देते थे।

Also Read: 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? जानें (इतिहास और महत्व)

सुभाष चन्द्र बोस के सुविचार | Thoughts of Subhash Chandra Bose

“सफलता दूर हो सकती है, लेकिन वह मिलती जरूर है।”

“सफलता हमेशा असफलता के स्तंभ पर खड़ी होती है। इसीलिए किसी को भी असफलता से घबराना नहीं चाहिए।”

“मां का प्यार सबसे गहरा और स्वार्थरहित होता है।  इसको किसी भी तरह से मापा नहीं जा सकता.”

“अगर जीवन में संघर्ष न रहे, किसी भी भय का सामना न करना पड़े, तो जीवन का आधा स्वाद ही समाप्त हो जाता है।”

“याद रखिए सबसे बड़ा अपराध, अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है।”

“उच्च विचारों से कमजोरियां दूर होती हैं। हमें हमेशा उच्च विचार पैदा करते रहना चाहिए।”

“आशा की कोई न कोई किरण होती है, जो हमें कभी जीवन से भटकने नहीं देती।”

“जिसके अंदर ‘सनक’ नहीं होती, वह कभी महान नहीं बन सकता।”

“सफल होने के लिए आपको अकेले चलना होगा, लोग तो तब आपके साथ आते है, जब आप सफल हो जाते हैं।”

“आजादी मिलती नहीं बल्कि इसे छिनना पड़ता है।”

“चरित्र निर्माण ही छात्रों का मुख्य कर्तव्य है।”

Also Read: Swami Vivekananda Positive Thoughts

सुभाष चंद्र बोस के राजनीतिक विचार | Political Thoughts of Subhash Chandra Bose

सुभाष चंद्र बोसे अहिंसा के विरोधी थे 

गाँधी जी के प्रशंसक

राष्ट्रीय आन्दोलन में रुचि एवं त्याग की आवश्यकता

राजनीतिक स्वतंत्रता के साथ-साथ सामाजिक स्वतंत्रता पर जोर

सुभाष चंद्र बोस के विचारों का महत्व | Importance Thoughts Of Subhash Chandra Bose

सुभाष चंद्र बोस (subhash chandra bose) वर्तमान और आने वाले कई वर्षों तक लाखों युवाओं को प्रेरित करते रहेंगे। सुभाष चंद्र बोस ने अपनी पुस्तक ‘ड्रीम्स ऑफ यूथ’ में लिखा है- ”हम इस दुनिया में एक उद्देश्य को पूरा करने के लिए पैदा हुए हैं – एक संदेश फैलाने के लिए। जैसे सूर्य पृथ्वी को प्रकाश से भर देने के लिए उगता है, जैसे जंगल में फूल खिलकर अपनी सुगंध फैलाते हैं, जैसे नदी मीठी ताज़गी भरी बारिश लाने के लिए समुद्र की ओर बढ़ती है – हम इस दुनिया में आए हैं, आनंद से भरे हुए और आनंद के साथ सत्य स्थापित करने के लिए हमारे दिलों की परिपूर्णता। और वह है चिंतन और कर्ममय जीवन के माध्यम से जीवन के अज्ञात और रहस्यमय उद्देश्य की खोज करना, जो केवल हमारे अन्यथा अर्थहीन अस्तित्व को सार्थक बना सकता है। सुभाष चंद्र बोस को इस बात पर गहरा विश्वास था कि युवा इस दुनिया को एक बेहतर जगह बना सकते हैं। आशा, त्याग और साहस युवाओं के विशेष गुण हैं।

Subhash Chandra Bose Quotes In Hindi

हमारा यह कर्तव्य है कि अपने स्वतंत्रता की रक्षा अपने खून से चुकाने के लिए तैयार रहें, हमे जो भी आजादी मिली है उसकी हर हाल में रक्षा करना हमारा परम कर्तव्य है।

जीवन के हर पल में आशा की कोई ना कोई किरण जरुर आती है जो हमें आगे बढ़ने का मार्ग प्रस्तुत करती है।

एक सच्चे सैनिक को सैन्य प्रशिक्षण के साथ-साथ आध्यात्मिक शिक्षण की भी आवश्कयता होती है।

हमारे देश की गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी, बीमारी जैसे अनेक समस्याओ का अंत समाजवादी तरीके से ही किया जा सकता है।

हम सभी के अंदर बस एक इच्छा होनी चाहिए – मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके, एक सैनिक के शाहदत से ही देश हमेसा जिन्दा खड़ा रहता है।

एक व्यक्ति किसी विचार के लिए मर सकता है, लेकिन वह विचार उसकी मृत्यु के बाद हजारों लोगों के जीवन में अवतरित होगा।- नेताजी सुभाष चंद्र बोस

भारत की नियति में अपना विश्वास कभी न खोएं। पृथ्वी पर ऐसी कोई शक्ति नहीं है जो भारत को बंधन में रख सके। भारत आज़ाद होगा, वो भी जल्द ही- नेताजी सुभाष चंद्र बोस

भारत में राष्ट्रवाद की नींव की शक्ति लोगों को जगाने का कार्य किया है जो की पहले निष्क्रिय हो गई थी।

सुभाष चंद्र बोस (जिन्हें नेता जी भी कहा जाता है) को भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में उनकी भूमिका के लिए जाना जाता है। असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाले और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता, वह अधिक उग्रवादी विंग का हिस्सा थे और समाजवादी नीतियों की वकालत के लिए जाने जाते थे। उन्हें असाधारण नेतृत्व कौशल और एक करिश्माई वक्ता के साथ सबसे प्रभावशाली स्वतंत्रता सेनानी माना जाता है। वह बहादुर और महान कूटनीतिज्ञ थे। वह देशभक्तों के देशभक्त थे।

FAQ’s: Subhash Chandra Bose Quotes

Q. सुभाष चंद्र बोस का व्यक्तित्व क्या है?

सुभाष चंद्र बोस को असाधारण नेतृत्व कौशल और एक करिश्माई वक्ता के साथ सबसे प्रभावशाली स्वतंत्रता सेनानी माना जाता है। उनके प्रसिद्ध नारे हैं ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा’, ‘जय हिंद’ और ‘दिल्ली चलो’। उन्होंने आजाद हिंद फौज का गठन किया और भारत के स्वतंत्रता संग्राम में कई योगदान दिये।

Q. सुभाष चंद्र बोस के बारे में कुछ बातें क्या हैं?

वह एक स्वतंत्रता सेनानी थे और स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाओं से बहुत प्रभावित थे। उन्होंने प्रसिद्ध उद्धरण दिया “तुम मुझे खून दो, और मैं तुम्हें आजादी दूंगा”। नेताजी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सक्रिय सदस्य थे। 1923 में उन्हें अखिल भारतीय युवा कांग्रेस का अध्यक्ष चुना गया।

Q. लोग सुभाष चंद्र बोस को क्यों पसंद करते हैं?

स्वतंत्रता आंदोलन में उनकी भागीदारी उल्लेखनीय थी। वह एक बहादुर और साहसी नेता थे। अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई में भगवद गीता से गहराई से प्रेरित सुभाष चंद्र बोस के बलिदान और संघर्ष को भुलाया नहीं जा सकता। उनके लिए राष्ट्र सर्वोपरि था।

Leave a Comment