National Tourism Day 2024: कब और क्यों मनाया जाता है, राष्ट्रीय पर्यटन दिवस जाने इसका इतिहास और महत्व

National Tourism Day: हर साल की तरह इस साल यानी कि साल 2024 में भी राष्ट्रीय पर्यटन दिवस 25 जनवरी को मनाया जायेगा। जैसे कि हम सब जानते है कि हमारे भारत देश में टूरिज्म यानी की पर्यटन के जरिए करोड़ों लोगों को रोजगार मिलता है, साथ ही देश की जीडीपी ( GDP ) की बढ़ोतरी में भी भारतीय पर्यटन ( Indian Tourism ) की अहम भूमिका रहती है , लेकिन क्या आपको पता है कि राष्ट्रीय पर्यटन दिवस को मनाने की शुरुआत कब, कहां और कैसे हुई? अगर आपको नहीं पता तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं, क्योंकि आज के इस आर्टिकल के जरिए हम आपके सभी प्रश्नों के उत्तर देने वाले हैं जिसमे हम बताएंगे, राष्ट्रीय पर्यटन दिवस क्या है? राष्ट्रीय पर्यटन दिवस क्यों मनाया जाता है? राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का महत्व? राष्ट्रीय पर्यटन दिवस 2024 की थीम क्या है? राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का इतिहास क्या है? राष्ट्रीय पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है? राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पर कोट्स? इन्हीं सब बिन्दुओं के माध्यम से जानकारी देने वाले हैं, तो आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पड़ें तभी आप सारे सवालों से जवाब जान पाएंगे।

National Tourism Day 2024 – Overview 

टॉपिकराष्ट्रीय पर्यटन दिवस
लेख प्रकारइनफॉर्मेटिव आर्टिकल
साल2024
भाषाहिंदी
राष्ट्रीय पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है25 जनवरी
2024 की राष्ट्रीय पर्यटन दिवस की थीम सतत यात्राएँ , कालातीत यादें”
राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मानने की शुरुआत कब से हुईभारत की आजादी के बाद साल 1948 में हुई थी
पर्यटन का जनक थॉमस कुक
भारत के पर्यटन मंत्री 2024 कौन है श्री जयवीर सिंह
राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पहली बार कब मनाया गया था27 सितंबर 1980 

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस 2024 (National Tourism Day 2024)

हर साल राष्ट्रीय पर्टन दिवस 25 जनवरी को मनाया जाता है। गौरतलब है कि हमारे प्यारे देश भारत में घूमने फिरने के लिए अच्छे स्थानों की कोई कमी नहीं है। हमारे भारत में ऐसे कई स्थान हैं जो बेहद ही खूबसूरत हैं, बल्कि हमारे देश में कुछ ऐसे स्थान भी हैं जो बेहद खूबसूरत हैं लेकिन वह अभी भी पर्यटकों की नजरों से दूर हैं, तो प्रसिद्ध टूरिस्ट डेस्टिनेशन (Popular Tourism Destination) के अलावा इन अनदेखी खूबसूरत स्थान के बारे में भी बताना ही राष्ट्रीय पर्यटन दिवस (National Tourism Day ) मनाने का मुख्य उद्देश्य है। पर्यटन के जरिए ही भारत में करोड़ों लोगों को रोजगार के नए अवसर मिलते हैं साथ ही देश की जीडीपी की बढ़ोतरी भी पर्यटन के जरिए ही होती है। 

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस कब मनाया जाता है (When National Tourism Day is Celebrated

हमारे देश में राष्ट्रीय पर्यटन दिवस (National Tourism Day) प्रतिवर्ष वर्ष के पहले महीने यानी की 25 जनवरी (25 January) को मनाया जाता है। देश के पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से हर साल  राष्ट्रीय पर्यटन दिवस (National Tourism Day) एक नई थीम के साथ मनाया जाता है। पूरा समारोह निर्धारित की गई थीम के इर्द गिर्ध आयोजित किया जाता है।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस क्या है | What is National Tourism Day

हमारा प्यारा देश भारत (india) अपनी विविधताओं के लिए देश ही नहीं दुनिया भर में मशहूर है हमारे देश में कई कई भाषाएं हैं और कई बोलियां बोली जाती हैं । हर राज्य की अलग-अलग संस्कृति और अलग-अलग परंपराएं भी हैं और तो और ऐतिहासिक स्थलों  से भरपूर इस देश में कई पर्यटन स्थल भी हैं । भारत ही नहीं भारत समेत दुनिया भर से कई देशों के लोग हमारे खूबसूरत पर्यटन स्थल को देखने के लिए आते हैं । सबसे बड़ी बात तो यह है कि भारतीय पर्यटन स्थलों के प्रचार एवं प्रसार के लिए हर साल देश में राष्ट्रीय पर्यटन दिवस (National Tourism Day) बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। साथ ही राष्ट्रीय पर्यटन दिवस के माध्यम से देश ही नहीं बल्कि विदेश तक भारत की ऐतिहासिकता, प्राकृतिक सुंदरता, सांस्कृतिक एवं खूबसूरती का प्रचार प्रसार जोरों से किया जाता है।

Also Read: शहीद दिवस पर महात्मा गांधी के इतिहास और महत्व के बारे में

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस क्यों मनाया जाता है | Why National Tourism Day Celebrated)

हमारा देश भारत पर्यटन के मामले में दुनिया भर में बेहद ही लोकप्रिय माना गया है, हमारे भारत में दुनिया के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी मौजूद हैं और यही पर्यटन देश की अर्थव्यवस्था में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस (National Tourism Day) हर साल 25 जनवरी को मनाया जाता है। यह पर्यटन दिवस भारत की प्राकृतिक सुंदरता एवं सांस्कृतिक विरासत को पर्यटन के जरिए बढ़ावा देने और इसकी महत्वता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है ।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का इतिहास | National Tourism Day History

हमारे देश भारत में राष्ट्रीय पर्यटन दिवस ( National Tourism Day ) हर साल 25 जनवरी को मनाया जाता है और इस दिवस को मनाने की शुरुआत भारत की आजादी के बाद साल 1948 में हुई थी। आजाद भारत में पर्यटन ( Tourism ) के महत्व को समझते हुए इसे बढ़ावा देने के लिए एक विशेष पर्यटन यातायात समिति (Tourism Traffic Committee) का गठन भी किया गया था । पर्यटन यातायात समिति के गठन के केवल 3 साल बाद ही 1951 में कोलकाता और चेन्नई में पर्यटन दिवस के क्षेत्रीय कार्यालय में बढ़ोतरी देखने को मिली। कोलकाता और चेन्नई के बाद देश के अन्य शहरों जैसे कि दिल्ली (Delhi) और मुंबई (Mumbai) में भी पर्यटन कार्यालय बनाए गए । इसके बाद महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए 1998 में पर्यटन एवं संचार मंत्री (Minister of Tourism and Communications)  के नेतृत्व में पर्यटन विभाग ( Tourism Department ) भी बनाया गया ।

Also Read: गणतंत्र दिवस 2024 स्टेटस हिंदी में

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का महत्व | National Tourism Day Significance

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस (National Tourism Day) बनाने का सबसे मुख्य उद्देश्य भारतीय पर्यटन स्थलों का प्रचार एवं प्रसार है  साथ ही पर्यटन के जरिए भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करना है। पर्यटन दिवस के जरिए राष्ट्र स्तर पर ही नहीं बल्कि वैश्विक स्तर पर पर्यटन के सामाजिक वित्तीय सांस्कृतिक एवं राजनीतिक मूल्य के महत्व के प्रति सभी लोगों को जागरूक करना है ।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस 2024 थीम (National Tourism Day Theme 2024)

साल 2024 की राष्ट्रीय पर्यटन दिवस की थीम है “सतत यात्राएँ , कालातीत यादें” (Continuing Journeys , Timeless Memories) यह थीम हमारे पर्यटन को समझने और उससे जुड़े रहने के तरीके में एक आदर्श बदलाव का प्रतीक है यह थीम एक कंपास के रूप में काम करता है जो दुनिया भर के उत्साही लोगों को दुनिया की अधिक कर्तव्यनिष्ठ एवं जिम्मेदार खोज की ओर मार्गदर्शन देता है। “Sustainable Journeys” पर्यटन के पर्यावरणीय प्रभाव (Environmental Effect) के बारे में बढ़ती वैश्विक एवं संस्कृत जागरूकता को भी दर्शाता है ।

“Sustainable Journeys” सभी यात्रियों को पर्यावरण के अनुकूल प्रथाओं को अपनाने के लिए पूरी तरह से प्रोत्साहन प्रदान करता है , जैसे कि हरित आवास चुनना, स्थानीय संरक्षण का पूरी तरह से समर्थन करना और उनके कार्बन पद चिन्ह (carbon footprint) को कम करना । “कालातीत यादें” (Sustainable Journeys) पर जोर देना इस सोच को पुष्ट करता है कि यात्राओं का वास्तविक मूल्य केवल दर्शनीय स्थलों की यात्रा से भी परे है। यह सभी यात्रियों को उन स्थानों के साथ सार्थक संबंध बनाने के लिए प्रोत्साहन प्रदान करता है जहां वे यात्रा के लिए जाते हैं साथ ही जिससे स्थानीय समुदायों पर बेहद ही सकारात्मक एवं स्थाई प्रभाव भी पड़ता है ।

यह यात्रियों को पर्यावरण-अनुकूल प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करता है, जैसे हरित आवास चुनना, स्थानीय संरक्षण पहल का समर्थन करना और उनके कार्बन पदचिह्न को कम करना। “कालातीत यादें” पर जोर इस विचार को पुष्ट करता है कि यात्रा का वास्तविक मूल्य केवल दर्शनीय स्थलों की यात्रा से परे है। यह यात्रियों को उन स्थानों के साथ सार्थक संबंध बनाने के लिए प्रोत्साहित करता है जहां वे जाते हैं, जिससे स्थानीय समुदायों पर सकारात्मक, स्थायी प्रभाव पड़ता है ।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पर कोट्स | National Tourism Day Quotes

एक पर्यटक वह देखता है जो कि वह देखने आया है, लेकिन यात्री वह देखता है, जो वह देखना चाहता है। – गिल्बर्ट के. चेस्टरटन

एक अच्छे यात्री की कोई निश्चित योजना नहीं होती है और पहुंचने का इरादा नहीं होता है। – लाओ ट्जु

लेखन भी एक यात्रा की तरह है। अगर आप थक कर रुक जाएं तो किसी जगह के लिए निकल जाना अच्छा है। – लैंग्स्टन ह्यूजेस

दुनिया एक किताब तरह है और जो यात्रा नहीं करते हैं, इसका मतलब है कि वे केवल एक पेज पढ़ते हैं। – सेंट अगस्टाइन

Conclusion:

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस से संबंधित इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि हमारे देश भारत में राष्ट्रीय पर्यटन दिवस क्यों मनाया जाता है और इस दिवस को इतना महत्व क्यों दिया जाता है । हमने आपको यह भी बताया कि पर्यटन के जरिए भारत में लाखों लोगों को रोजगार भी मिलता है अगर आपको यह विषय (राष्ट्रीय पर्यटन दिवस) पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तो के साथ भी साझा कर सकते हैं, ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी बेवसाइट ( https://easybhulekh.in ) पर विजिट कर सकते हैं, साथ अगर आपका कोई सवाल से है तो अप कॉमेंट कर सकते हैं हम आपके सवालों के जल्द से जल्द जवाब देने का प्रयास करेंगे।।

FAQ’s: National Tourism Day 2024

Q. राष्ट्रीय पर्यटन को बढ़ावा देने के क्या लाभ हैं?

Ans. देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देता है, रोजगार के अवसर पैदा करता है और विदेशी मुद्रा कमाई करता है।

Q. भारत में राष्ट्रीय पर्यटन के लिए कौन से प्रसिद्ध स्थल हैं?

Ans.ताजमहल, गोवा के समुद्र तट, केरल के बैकवाटर्स, हिमालय का दृश्य और राजस्थान के किले कुछ प्रसिद्ध उदाहरण हैं।

Q. सरकार राष्ट्रीय पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए क्या कर रही है?

Ans.पर्यटन बुनियादी ढांचे में सुधार, वीजा प्रक्रिया को आसान बनाना और पर्यटन प्रचार अभियान चलाना जैसे कदम उठाए जा रहे हैं।

Q. स्थानीय समुदाय राष्ट्रीय पर्यटन में कैसे योगदान दे सकते हैं?

Ans.अपनी संस्कृति और परंपराओं को साझा करना, स्थानीय हस्तशिल्प और व्यंजनों को बढ़ावा देना और टिकाऊ पर्यटन प्रथाओं को अपनाना शामिल हैं।

Q. राष्ट्रीय पर्यटन को टिकाऊ कैसे बनाया जा सकता है?

Ans. प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण, स्थानीय संस्कृति का सम्मान और पर्यावरण के अनुकूल पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देना आवश्यक है।

Leave a Comment