Mahashivratri 2024: जानना चाहते है महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त और शुभ संयोग ? तो जरुर पढ़े ये लेख

Maha Shivratri Shubh Muhurat 2024: महाशिवरात्रि हिंदुओं का एक अविश्वसनीय त्योहार है जो भगवान शिव को समर्पित है। कई भक्त इस दिन उपवास रखते हैं और विभिन्न अनुष्ठानों का पालन किया जाता है। महाशिवरात्रि का व्रत करने से आंतरिक ऊर्जा मिलती हैं।  इस दिन उपवास करने से आध्यात्मिकता बढ़ती है और मन और आत्मा शुद्ध होती है।लोग भगवान शिव का आशीर्वाद लेने के लिए व्रत रखते हैं। उपवास को भगवान को प्रभावित करने के एक तरीके के रूप में देखा जाता है ताकि वे हमारी सभी इच्छाओं को पूरा करें। यह भी माना जाता है कि महाशिवरात्रि का व्रत करने से सारे पाप धुल जाते हैं।  हिंदू धर्मशास्त्र में कोई भी त्यौहार शुभ मुहूर्त के अनुसार ही मनाया जाता है तभी जाकर पूजा सफल मानी जाती है ऐसे में महाशिवरात्रि का 2024 में शुभ मुहूर्त क्या होगा उसके बारे में अगर आप नहीं जानते हैं तो आज के लेख में Maha Shivratri Shubh Muhurat 2024 से जुड़ी जानकारी जैसे-: What is Maha Shivaratri | When is Maha Shivratri) | Mahashivratri Muhurat | Mahashivratri Shubh Yogya) | why is Maha Shivratri Celebrated | Maha Shivratri Mantra | Maha Shivratri Mantra in Hindi ) How is Maha Shivaratri Celebrated ) के बारे में आपको सहज और आसान भाषा में जानकारी विस्तार में उपलब्ध करवाएंगे आर्टिकल हमारा आखिर तक ध्यान पूर्वक  पढ़िएगा आई जानते हैं:-

क्या है महा शिवरात्रि ( What is Maha Shivaratri )

महा शिवरात्रि, या महाशिवरात्रि , हिंदू धर्म में एक पवित्र त्योहार है जो हिंदू भगवान, भगवान शिव को समर्पित है। उत्तर भारत में, महा शिवरात्रि हर साल हिंदू कैलेंडर के अंतिम महीने में मनाई जाती है, जिसे फाल्गुन कहा जाता है , जबकि दक्षिण भारत में, यह हिंदू कैलेंडर के माघ महीने में मनाया जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, महा शिवरात्रि फरवरी मार्च महीने में मनाया जाता है वर्ष 2024 में, यह 8 मार्च को होगी।

यह भी पढ़ें: महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

कब है महा शिवरात्रि (When is Maha Shivratri)

महाशिवरात्रि 2024 में 8 मार्च को पूरे भारतवर्ष में उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाएगा इस दिन सभी लोग भगवान शंकर की पूजा आराधना करेंगे ताकि उनकी विशेष कृपा प्राप्त हो सके विशेष तौर पर महाशिवरात्रि पर कुंवारी कन्याएं महाशिवरात्रि का व्रत करती है ताकि उन्हें भगवान शंकर के जैसा पति मिल सके।

महाशिवरात्रि 2024 मुहूर्त (Mahashivratri Muhurat)

महाशिवरात्रि का व्रत 2024 में 8 मार्च को रात 9 बजकर 57 मिनट पर होगा और  समापन शाम 6 बजकर 17 मिनट पर होगा. उदया तिथि के  महाशिवरात्रि का व्रत 8 मार्च को मनाया जाएगा महाशिवरात्रि का पूजन निशिता काल में किया जाता है नीचे हम आपको महाशिवरात्रि का पूजा मुहूर्त कब से कब तक रहेगा उसका पूरा विवरण दे रहे हैं:-

निशिता काल – 8 मार्च को रात 12 बजकर 05 मिनट से लेकर 9 मार्च को रात 12 बजकर 56 मिनट तक

प्रथम पहर पूजन समय– 8 मार्च को शाम 6 बजकर 25 मिनट से शुरू होगा और समापन रात 9 बजकर 28 मिनट  पर हो जाएगा।

दूसरा पहर पूजन समय– 8 मार्च को रात 9  बजकर 28 मिनट से शुरू होगा और समापन 9 मार्च को रात 12 बजकर 31 मिनट हो जाएगा।

तीसरे पहर पूजन समय–  मार्च को रात 12 बजकर 31 मिनट से शुरू होगा और समापन सुबह 3 बजकर 34 मिनट पर होगा

चौथा पहर पूजन समय–  सुबह 3 बजकर 34 मिनट पर होगा से लेकर सुबह 6 बजकर 37 मिनट ही रहेगा

महाशिवरात्रि पर शुभ संयोग (Mahashivratri Shubh Yogya)

महाशिवरात्रि पर इस बार कई प्रकार के शुभ संयोग बना रहे हैं। उस दौरान अगर आप भगवान शंकर की पूजा करते हैं तो आपको उसका विशेष फल प्राप्त होगा जिसका पूरा विवरण हम  आपको नीचे दे रहे हैं आई जानते हैं:-

शिव योग 

महाशिवरात्रि पर शिव योग का शुभ संयोग बन  रहा है इस दौरान अगर आप भगवान शंकर की पूजा करते हैं तो आपके जीवन में अगर कोई भी परेशानी है तो उसका निवारण हो जाएगा इसके अलावा मोक्ष की प्राप्ति होगा |

सर्वार्थ सिद्धि योग 

महाशिवरात्रि त्योहार पर इस बार सर्वार्थ सिद्धि योग  बन रहा हैं।  इस योग में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना करने से विशेष कार्य पूरे हो जाएंगे इसलिए  यह योग आपके हर कष्ट को हर लेगा। साथ ही आप जिस अर्थ य उद्देश्य से व्रत रखते हैं उसमें सफलता आप जरूर होंगे

श्रवण नक्षत्र योग

महाशिवरात्रि पर श्रवण नक्षत्र योग भी  बन रहा हैं। इस दिन भगवान शंकर की पूजा करने से आपको शनि देव के प्रकोप से मुक्ति मिलेगी  नक्षत्र के स्वामी भगवान शनि देव हैं और उनके गुरु भगवान शंकर हैं। इस नक्षत्र में  व्रत करने से आपको उसका विशेष लाभ प्राप्त होगा। दूसरी बात यह है कि भगवान शिव को श्रवण नक्षत्र अत्यंत प्रिय है।

यह भी पढ़ें: महा शिवरात्रि, जाने इस दिन का महत्व, इतिहास

क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि (Why is Maha Shivratri Celebrated )

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, हम महाशिवरात्रि क्यों मनाते हैं इसके कई कारण जुड़े हुए हैं। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ था। इसलिए, हर साल उनके मिलन का जश्न मनाने के लिए यह दिन मनाया जाता है।  यही कारण है कि महाशिवरात्रि के दिन अगर कोई भी कुंवारी कन्या भगवान शंकर की पूजा आराधना करती हैं तो उसे योग्य पति की प्राप्ति होती हैं। हालाँकि, एक अन्य किंवदंती कहती है कि महाशिवरात्रि उस दिन को याद करने के लिए मनाई जाती है जब भगवान शिव ने समुद्र से निकला जहर पी लिया था और दुनिया को अंधेरे और निराशा से बचाया था। जिसके कारण भी महाशिवरात्रि का त्यौहार मनाया जाता हैं।

महाशिवरात्रि का महत्व (importance of Mahashivratri)

  • चंद्र चक्र के अनुसार, एक वर्ष में 12 शिवरात्रियां आती हैं, जिनमें से महा शिवरात्रि को सबसे शुभ माना जाता है। भारत के प्राचीन ऋषियों का वर्णन है कि इस दिव्य रात्रि में जागते हुए भगवान शिव की पूजा करना आंतरिक चेतना को विकसित करने में सहायक होता है।
  • ज्योतिषीय रूप से, इस पवित्र दिन पर, सूर्य और चंद्रमा एक विशेष संरेखण में आते हैं जो मन को उन्नत करने में सहायक होते हैं। भारतीय ज्योतिषी इस बात की वकालत करते हैं कि यह शुभ दिन आध्यात्मिक अभ्यास, ध्यान और हमारी रीढ़ में ऊर्जा के प्राकृतिक उत्थान के लिए अनुकूल है।
  •  इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ था। भक्त दूध, पानी और शहद से शिवलिंग की पूजा करते हैं और विभिन्न फूलों और बेलपत्रों से सजाते हैं। भक्त इस त्योहार को बड़ी शांति के साथ मनाते हैं, भगवान का आशीर्वाद पाने के लिए पूरा उपवास रखते हैं।

महाशिवरात्रि मंत्र (Maha Shivratri Mantra)

महाशिवरात्रि संबंधित कई प्रकार के मंत्र धार्मिक शास्त्रों में लिखे गए हैं उसके मुताबिक अगर आप भगवान शंकर की पूजा महाशिवरात्रि भी करते हैं तो पूजा का विशेष फल आपको प्राप्त होगा नीचे हम आपको महाशिवरात्रि संबंधित मंत्र का विवरण दे रहे हैं- 

ॐ नमः शिवाय

ॐ हौं जूं स:।

चंद्र बीज मंत्र- ‘ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चंद्रमसे नम:’, चंद्र मूल मंत्र ‘ॐ चं चंद्रमसे नम:’।

ॐ ऐं नम: शिवाय।

ॐ ह्रीं नम: शिवाय।

ह्रीं श्रीं ‘ॐ नम: शिवाय’ : श्रीं ह्रीं ऐं

ॐ ऐं ह्रीं शिव गौरीमय ह्रीं ऐं ऊं।

शिव गायत्री मंत्र- ॐ तत्पुरुषाय विद्महे, महादेवाय धीमहि, तन्नो रूद्र प्रचोदयात्।।

ॐ जूं स:। 

ॐ त्र्यंम्बकम् यजामहे, सुगन्धिपुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान्, मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्।।

महाशिवरात्रि मंत्र इन हिंदी (Maha Shivratri Mantra in Hindi)

महाशिवरात्रि की शुभ अवसर पर भगवान शंकर की पूजा अगर आप करना चाहते हैं तो महाशिवरात्रि पर विशेष प्रकार के मंत्र का उच्चारण आपको करना होगा। तभी जाकर आपकी पूजा सफल मानी जाएगी जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं- 

पंचाक्षरी शिव मंत्र: ओम नम: शिवाय

रुद्र मंत्र:  ओम नम: भगवते रुद्राय

रुद्र गायत्री मंत्र: ओम तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्

महा मृत्युंजय मंत्र: ओम त्र्यंबकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम्, उर्वारुकमिव बंधनान-मृत्योर्मुक्षेय मामृतात्

महाशिवरात्रि मंत्र PDF (Maha Shivratri Mantra PDF)

महाशिवरात्रि मंत्र यदि आप पीडीएफ के स्वरूप में प्राप्त करना चाहते हैं तो उसका पीडीएफ फाइल हम आपको आर्टिकल में उपलब्ध करवाएंगे जिसे आप मोबाइल में डाउनलोड कर सकते हैं। 

कैसे मनाई जाती है महाशिवरात्रि ( How is Maha Shivaratri Celebrated )

महाशिवरात्रि हिंदू महीने माघ या फाल्गुन (आमतौर पर फरवरी या मार्च) के Darkfornight  के 14वें दिन आती है। ऐसा माना जाता है कि यह वह रात है जब भगवान शिव सृजन, संरक्षण और विनाश का प्रतिनिधित्व करते हुए ब्रह्मांडीय नृत्य करते हैं। भक्त आशीर्वाद और शुद्धि पाने के लिए उपवास करते हैं, ध्यान करते हैं और विभिन्न अनुष्ठानों में भाग लेते हैं। भारत में महाशिवरात्रि का त्योहार कई तरीकों से मनाया जाता है दक्षिण भारतीय ब्राह्मण समुदायों में, दिन की शुरुआत भगवान शिव को समर्पित मंदिरों में सुबह-सुबह अनुष्ठानों से होती है। शिव लिंगम पर विशेष प्रार्थनाएँ और अनुष्ठान स्नान) किए जाते हैं। भक्त अक्सर  उपवास रखते हैं, दिन के दौरान केवल पानी या दूध का सेवन करते हैं और अगली सुबह इसे तोड़ते हैं। वे रात्रि जागरण करते हैं, प्रार्थना करते हैं, भजन गाते हैं  और धार्मिक प्रवचन सुनते हैं।अन्य ब्राह्मण समुदायों में, जैसे कि उत्तर भारत में, उत्सव में मंदिरों और घरों में पुजारियों द्वारा विस्तृत पूजा (अनुष्ठान पूजा) शामिल हो सकती है। भक्त पवित्रता और भक्ति का प्रतीक, शिव लिंगम पर बेलपत्र, दूध, शहद और पानी चढ़ाते हैं।

कुछ घर हिंदू पौराणिक कथाओं, विशेष रूप से भगवान शिव से संबंधित कहानियों को दर्शाने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम या नाटक भी आयोजित करते हैं।गैर-ब्राह्मण समुदायों में, उत्सवों में अक्सर जुलूस, लोक नृत्य और संगीत प्रदर्शन शामिल होते हैं। महाराष्ट्र जैसे कुछ क्षेत्रों में, लोग मिट्टी या चांदी से बने प्रतिष्ठित लिंग के रूप में भगवान शिव की पूजा करते हैं। ये लिंग फूल, बिल्व पत्र और सिन्दूर से सुशोभित हैं।  भारत के कई बड़े शिव मंदिरों में विशाल भगवान शंकर का कार्यक्रम आयोजित होता है जहां पर लाखों की संख्या श्रद्धालु इकट्ठा होकर भगवान शंकर की पूजा आराधना करते हैं।

महाशिवरात्रि व्रत विधि ( Maha Shivratri Vrat Vidhi )

  1. महाशिवरात्रि व्रत से एक दिन पहले केवल एक बार भोजन करने का सुझाव दिया जाता है। 
  2. शिवरात्रि के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए। जल में काले तिल डालने की सलाह दी जाती है। ऐसा माना जाता है कि शिवरात्रि के दिन पवित्र स्नान न केवल शरीर बल्कि आत्मा को भी शुद्ध करता है। यदि संभव हो तो गंगा स्नान को प्राथमिकता दी जाती है।
  3. स्नान करने के बाद भक्तों को पूरे दिन का उपवास रखने और अगले दिन उपवास तोड़ने का संकल्प लेना चाहिए। संकल्प के दौरान भक्त पूरे उपवास अवधि के दौरान आत्मनिर्णय की प्रतिज्ञा करते हैं और भगवान शिव से बिना किसी व्यवधान के उपवास पूरा करने का आशीर्वाद मांगते हैं। हिंदू व्रत सख्त होते हैं और लोग आत्मनिर्णय की प्रतिज्ञा करते हैं और उन्हें सफलतापूर्वक समाप्त करने के लिए शुरू करने से पहले भगवान का आशीर्वाद मांगते हैं।
  4. व्रत के दौरान भक्तों को सभी प्रकार के भोजन से परहेज करना चाहिए। उपवास के सख्त रूप में पानी की भी अनुमति नहीं है। हालाँकि, दिन के समय फलों और दूध के सेवन का सुझाव दिया जाता है जिसके बाद रात के दौरान सख्त उपवास करना चाहिए। दूसरे शब्दों में दिन के समय फल और दूध का सेवन किया जा सकता है।
  5. भक्तों को शिव पूजा करने या मंदिर जाने से पहले शाम को दूसरा स्नान करना चाहिए। यदि कोई मंदिर जाने में सक्षम नहीं है तो पूजा गतिविधियों के लिए अस्थायी शिव लिंग बनाया जा सकता है। कोई घर पर अभिषेक पूजा करने के लिए मिट्टी को लिंग का आकार भी दे सकता है और घी लगा सकता है।
  6. शिव पूजा रात्रि के समय करनी चाहिए। शिवरात्रि पूजा रात में एक बार या चार बार की जा सकती है। चार बार शिव पूजा करने के लिए पूरी रात की अवधि को चार प्रहर में विभाजित किया जा सकता है। जो भक्त एकल पूजा करना चाहते हैं उन्हें मध्यरात्रि के दौरान पूजा करनी चाहिए।
  7. पूजा विधि के अनुसार, शिव लिंगम का अभिषेक विभिन्न सामग्रियों से किया जाना चाहिए। अभिषेक के लिए आमतौर पर दूध, गुलाब जल, चंदन का पेस्ट, दही, शहद, घी, चीनी और पानी का उपयोग किया जाता है। चार प्रहर की पूजा करने वाले भक्तों को अन्य सामग्रियों के अलावा पहले प्रहर के दौरान जल अभिषेक, दूसरे प्रहर के दौरान दही अभिषेक, तीसरे प्रहर के दौरान घी अभिषेक और चौथे प्रहर के दौरान शहद अभिषेक करना चाहिए।
  8. अभिषेक अनुष्ठान के बाद, शिव लिंग को बिल्व पत्रों से बनी माला से सजाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि बिल्व पत्र भगवान शिव को शीतलता प्रदान करते हैं।
  9. उसके बाद शिव लिंग पर चंदन या कुमकुम लगाया जाता है जिसके बाद दीपक और धूप जलाया जाता है। भगवान शिव को सजाने के लिए जिन अन्य वस्तुओं का उपयोग किया जाता है उनमें मदार का फूल, जिसे आक भी कहा जाता है, विभूति जिसे भस्म भी कहा जाता है, शामिल हैं। विभूति पवित्र राख है जो सूखे गाय के गोबर का उपयोग करके बनाई जाती है।
  10. पूजा अवधि के दौरान जप करने का मंत्र ओम नमः शिवाय है ।
  11. भक्तों को अगले दिन स्नान करने के बाद व्रत तोड़ना चाहिए। व्रत का अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए भक्तों को सूर्योदय के बीच और चतुर्दशी तिथि समाप्त होने से पहले व्रत तोड़ना चाहिए। 

Conclusion

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी अहम सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में..!!

FAQ’s:

Q.महाशिवरात्रि पर भगवान शिव को मुख्य रूप से क्या चढ़ाया जाता है?

Ans. महाशिवरात्रि पर भगवान शिव को मुख्य रूप से दूध और बेल के पत्ते चढ़ाए जाते हैं।

Q. वाराणसी में कितने ज्योतिर्लिंग मौजूद हैं?

Ans. वाराणसी में भगवान शिव का एकमात्र ज्योतिर्लिंग है; हालाँकि, दुनिया भर में कुल 12 ज्योतिर्लिंग हैं (भारत में 11 और नेपाल में 1)।

Q.भगवान शिव के गले में लिपटे साँप का क्या नाम है?

Ans. वासुकि – नागों के राजा भगवान शिव के गले में लिपटे हुए हैं।

Q. भगवान शिव को नीलकंठ क्यों कहा जाता है?

Ans. . भगवान शिव ने ‘समुद्र मंथन’ के दौरान जहर पी लिया और उनकी गर्दन नीली हो गई और इसलिए उन्हें नीलकंठ कहा गया।

Leave a Comment