Basant Panchami 2024: 14 फरवरी को मनाई जाएगी बसंत पंचमी, जानें मां सरस्वती की पूजा विधि और मुहूर्त

बसंत पंचमी हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो माघ शुक्ल पंचमी को मनाया जाता है। यह दिन वसंत ऋतु का आगमन दर्शाता है, जो प्रकृति में नई जान फूंकती है। इस दिन लोग प्रकृति के सौंदर्य का आनंद लेते हैं और विद्या, बुद्धि, संगीत और कला की देवी सरस्वती की पूजा करते हैं। आज के इस लेख के जरिए हम आपको बसंत पंचमी के बारे में बताएंगे साथ ही हम आपको बताएंगे कि वसंत पंचमी क्यों मनाई जाती है?, बसंत पंचमी का महत्व क्या है?, बसंत पंचमी की पूजा विधि क्या है?, बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त क्या है?, इसीलिए हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़िए ।

Basant Panchami 2024- Overview

टॉपिकबसंत पंचमी
लेख प्रकारइनफोर्मेटिव आर्टिकल
साल2024
भाषाहिंदी
बसंत पंचमी कब मनाई जाएगी14 फरवरी
बसंत पंचमी का दूसरा नाम क्या हैश्रीपंचमी सरस्वती पूजा है
बसंत पंचमी के दिन किसकी पूजा की जाती हैसरस्वती पूजा
बसंत पंचमी पर किस मंदिर में जाना हैसरस्वती मां के मंदिर
सरस्वती पूजा का मंत्र क्या हैमहाभागे विद्ये कमललोचने । विद्यारूपे विशालाक्षि विद्यां देहि नमोस्तुते ॥
देवी सरस्वती का आशीर्वाद कैसे प्राप्त करेंमां सरस्वती की आरती करने से

About Basant Panchami | बसंत पंचमी के बारे में

बसंत पंचमी एक हिंदू त्योहार है जो हर साल माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। यह भारत, नेपाल और बांग्लादेश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार वसंत ऋतु के आगमन का प्रतीक है, जिसे साल की सबसे सुंदर ऋतु माना जाता है।

बसंत पंचमी को विद्या की देवी सरस्वती की पूजा के लिए भी मनाया जाता है। इस दिन, लोग सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा करते हैं और उनकी कृपा पाने के लिए प्रार्थना करते हैं।

What is Basant Panchami | क्या है बसंत पंचमी

बसंत पंचमी, हिन्दी पंचांग के अनुसार माघ मास के पंचमी तिथि को मनाया जाने वाला हिन्दू त्योहार है। इस दिन सरस्वती, विद्या की देवी, की पूजा की जाती है, जिसका सारंगी और वीणा से संबंध है। यह त्योहार वसंत ऋतु के प्रारंभ को सूचित करता है और बसंत के रंग और फूलों की सुंदरता को दिखाता है।

Basant Panchami Kab Hai 2024 | कब है बसंत पंचमी 2024

2024 में बसंत पंचमी का पर्व 14 फरवरी, बुधवार के दिन मनाया जाएगा। बसंत पंचमी माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस दिन ज्ञान, कला और संगीत की देवी मां सरस्वती की पूजा की जाती है। इस दिन लोग पीले रंग के वस्त्र पहनते हैं और मां सरस्वती को पीले फूल और मिठाइयां चढ़ाते हैं।

Basant Panchami Kyu Manayi Jati Hai | क्यों मनाई जाती है बसंत पंचमी

बसंत पंचमी मनाने के दो मुख्य कारण हैं:-

  • वसंत ऋतु का आगमन: बसंत पंचमी से ही वसंत ऋतु का आगमन होता है। वसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा माना जाता है। इस ऋतु में मौसम सुहावना होता है, प्रकृति में हरियाली छा जाती है और फूल खिलने लगते हैं। बसंत पंचमी के दिन वसंत ऋतु के आगमन का स्वागत किया जाता है।
  • मां सरस्वती का जन्म: मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन ही ज्ञान, कला और संगीत की देवी मां सरस्वती का जन्म हुआ था। इसलिए इस दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है और उनसे ज्ञान, कला और संगीत की प्राप्ति की कामना की जाती है।

Basant Panchami Significance | बसंत पंचमी का महत्व

वसंत पंचमी एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है जो प्रकृति, शिक्षा और संस्कृति का प्रतीक है। यह एक ऐसा दिन है जब लोग प्रकृति के सौंदर्य का आनंद लेते हैं, विद्या, बुद्धि और कला की प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आनंद लेते हैं। मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन ही ज्ञान एवं संगीत की देवी मां सरस्वती का जन्म हुआ था साथ ही वसंत पंचमी के दिन से ही वसंत ऋतु का आगमन भी हो जाता है ।

यह भी पढ़ें: रुचिका कालदर्शक हिंदी कैलेंडर 2024: व्रत एवं त्यौहार

Basant Panchami Puja or Muhurat | बसंत पंचमी मुहूर्त 2024

बसंत पंचमी का त्योहार माघ शुक्ल पंचमी को मनाया जाता है। इस दिन उदया तिथि का मान्य होता है, इसीलिए 2024 में बसंत पंचमी 14 फरवरी को मनाई जाएगी।

दिनांक: 14 फरवरी
तिथि: फाल्गुन शुक्ल पंचमी
शुभ मुहूर्त: सुबह 7 बजकर 1 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक

Basant Panchami Puja Vidhi | बसंत पंचमी पूजा विधि

बसंत पंचमी के दिन विद्या, बुद्धि, संगीत और कला की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। इस दिन लोग सरस्वती माता से ज्ञान, बुद्धि और कला की प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं। सरस्वती माता को पीले रंग का फूल, फल, मिठाई और अक्षत चढ़ाए जाते हैं।

पूजा विधि:

  • सुबह जल्द से जल्द उठकर स्नान करें और साफ कपड़े पहनें।
  • पूजा स्थल को साफ करें और उस पर पीले रंग का कपड़ा बिछाएं।
  • चौकी पर सरस्वती माता की मूर्ति या चित्र स्थापित करें।
  • पीले रंग के फूल, फल, मिठाई और अक्षत आदि अर्पित करें।
  • रोली, चंदन, धूप और दीप से आरती करें।
  • सरस्वती माता के मंत्रों का जाप करें।
  • सरस्वती माता से ज्ञान, बुद्धि और कला की प्राप्ति की प्रार्थना करें।
  • पूजा के बाद प्रसाद बांटें

Conclusion:

बसंत पंचमी एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है जो प्रकृति, शिक्षा और संस्कृति का प्रतीक है। यह एक ऐसा दिन है जब लोग प्रकृति के सौंदर्य का आनंद लेते हैं, विद्या, बुद्धि और कला की प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आनंद लेते हैं। वसंत पंचमी के त्योहार से संबंधित यह लेख अगर आपको पसंद आया हो तो इस लेख को अपने मित्रों को भी साझा करिए साथ ही हमारे अन्य आर्टिकल्स को भी जरूर पढ़िए । इसके लिए आप हमारी वेबसाइट https://easyhindi.in पर जाकर देख सकते हैं। साथ ही अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें कॉमेंट कर सकते हैं हम जल्द ही आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास करेंगे।

FAQ’s: Vasant Panchami 2024

Q. 1 बसंत पंचमी कब मनाई जाती है?

Ans बसंत पंचमी माघ शुक्ल पंचमी को मनाई जाती है।

Q. 2 बसंत पंचमी के दिन कौन सी ऋतु का आगमन होता है?

Ans. बसंत पंचमी के दिन वसंत ऋतु का आगमन होता है।

Q.3 बसंत पंचमी का संबंध किस देवी से है?

Ans. बसंत पंचमी का संबंध विद्या, बुद्धि, संगीत और कला की देवी सरस्वती से है ।

Q. 4 बसंत पंचमी के दिन कौन से पकवान बनाए जाते हैं?

Ans बसंत पंचमी के दिन पीले रंग के पकवान बनाए जाते हैं, जैसे कि पीले चावल, पीले पकौड़े, पीले लड्डू आदि।

Q.5 देवी सरस्वती को क्या चढ़ाएं?

Ans. बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती के सामने मिठाई, फल, रोली, मोली चढ़ाएं ।

Leave a Comment