Sheetala Saptami Puja Vidhi 2024: क्या होती है शीतला सप्तमी पूजा और महत्व जानने के लिए पढ़े हमारा लेख

 Sheetala Saptami Puja Vidhi: शीतला सप्तमी देवी शीतला को समर्पित एक हिंदू त्योहार है। यह साल में दो बार मनाया जाता है, एक बार ‘चैत्र’ महीने के ‘कृष्ण पक्ष सप्तमी’ (चंद्रमा के घटते चरण का 7वां दिन) के दौरान और दूसरा ‘शुक्ल पक्ष सप्तमी’ (चंद्रमा के बढ़ते चरण का 7वां दिन) के दौरान। चंद्रमा) ‘श्रावण’ महीने में। चैत्र माह में पड़ने वाली शीतला सप्तमी का बहुत महत्व है। शीतला सप्तमी के दिन, भक्त अपने बच्चों को संक्रामक चिकन पॉक्स और चेचक से बचाने के लिए देवी शीतला की पूजा करते हैं। यह त्यौहार पूरे भारत में विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में मनाया जाता है। भारत के दक्षिणी राज्यों में, देवी शीतला को ‘देवी पोलेरम्मा’ या ‘देवी मरियम्मन’ के रूप में पूजा जाता है। कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में, शीतला सप्तमी को ‘पोलाला अमावस्या’ के रूप में मनाया जाता है। शीतला सप्तमी की पूजा अगर आप विधि विधान से पूरा करेंगे तभी जाकर आपको माता का आशीर्वाद प्राप्त होगा |

ऐसे में आप भी जानना चाहते हैं शीतला सप्तमी त्यौहार की पूजा विधि क्या होती है तो आज के आर्टिकल में Sheetala Saptami Puja Vidhi से जुड़ी सभी जानकारी जैसे- What is Sheetala Saptami Puja | Sheetala Saptami Puja significance) Sheetala Saptami Puja benefits ) Sheetala Saptami Puja Samagri) शीतला सप्तमी पूजा सामग्री लिस्ट ( Sheetala Saptami Puja Vidhi Samagri List) शीतला सप्तमी पूजा में क्या नहीं करना चाहिए (What not to do During Sheetala Saptami Puja) शीतला सप्तमी पूजन विधि मंत्र (Mantra for Sheetala Saptami Puja) शीतला सप्तमी पूजन विधि (Sheetala Saptami Pujan Vidhi) के बारे में डिटेल जानकारी आपको आसान भाषा में उपलब्ध करवाएंगे आर्टिकल पर बने रहिएगा आईए जानते हैं:-

Sheetala Saptami Puja Vidhi – Overview 

आर्टिकल का प्रकारमहत्वपूर्ण त्यौहार
आर्टिकल का नामSheetala Saptami:
साल कौन सा है2024
कब मनाया जाएगा2 अप्रैल 2024 को
कहां मनाया जाएगाभारत के विभिन्न राज्यों में
शुभ मुहूर्त क्या है06:10 AM to 06:40 PM शीतला सप्तमी
कौन सा धर्म के लोग मानेंगेहिंदू धर्म के लोग

क्या होती है शीतला सप्तमी पूजा (What is Sheetala Saptami Puja)

शीतला सप्तमी पूरे भारत में मनाया जाने वाला एक हिंदू त्योहार है और इस दिन देवी शीतला की पूजा की जाती है। यह त्योहार हिंदू चैत्र महीने के अंधेरे पखवाड़े (कृष्ण पक्ष) के सातवें दिन (सप्तमी) को मनाया जाता है, जो ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार मार्च या अप्रैल में आता है। कुछ स्थानों पर यह व्रत श्रावण (अगस्त-सितंबर) के महीने में मनाया जाता है।शीतला सप्तमी एक त्यौहार है जो माँ शीतला को समर्पित है। शीतला देवी माँ दुर्गा और माँ पार्वती का अवतार हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी शीतला प्रकृति की उपचार शक्ति का प्रतीक हैं। इस शुभ अवसर पर, भक्त अपने बच्चों और परिवार के सदस्यों को चेचक, संक्रामक रोगों और अन्य त्वचा रोगों के कारण होने वाली पीड़ाओं से बचाने के लिए माँ शीतला की पूजा करते हैं।

शीतला सप्तमी पूजा का महत्व (Sheetala Saptami Puja Significance) 

शीतला सप्तमी का महत्व ‘स्कंद पुराण’ में वर्णित है। शीतला सप्तमी का त्योहार देवी शीतला को समर्पित है। हिंदू पौराणिक कथाओं में, देवी शीतला देवी को देवी पार्वती और देवी दुर्गा का अवतार माना जाता है। देवी शीतला लोगों को चेचक या चेचक से पीड़ित करने और उन्हें ठीक करने दोनों के लिए जानी जाती हैं। इसलिए, हिंदू भक्त अपने बच्चों को ऐसी बीमारियों से बचाने के लिए इस दिन शीतला माता की पूजा करते हैं। ‘शीतला’ शब्द का अर्थ है ‘शीतल’ और ऐसा माना जाता है कि देवी अपनी शीतलता से रोगों को ठीक करती हैं। भारत के कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में, लोग देवी को प्रसन्न करने के लिए पशु बलि भी देते हैं।

Also Read: मां शैलपुत्री महत्व, कहानी, पूजा विधि, शैलपुत्री चालीसा

शीतला सप्तमी पूजा के लाभ (Sheetala Saptami Puja Benefits)

वैसे तो शीतला सातम व्रत करने के कई फायदे हैं, लेकिन मुख्य यह है कि यह स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। शीतला माता स्वास्थ्य समस्याओं में सुधार करती हैं, और आप दीर्घकालिक अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद पा सकते हैं। किसी भी स्वास्थ्य रोग से पीड़ित व्यक्ति देवी की कृपा से ठीक हो सकता है। देवी की कृपा से चेचक, चेचक या खसरा जैसी बीमारियाँ दूर हो जाती हैं। किसी बड़ी स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित बच्चों को इससे छुटकारा मिल सकता है।इसलिए महिलाएं अपने बच्चों की अच्छी सेहत के लिए व्रत रखती हैं। इसके अलावा, शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोग पास के मंदिर में जाते हैं और माता शीतला की स्तुति करके अपने बेहतर स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करते हैं। 

शीतला सप्तमी पूजा सामग्री (Sheetala Saptami Puja Samagri)

  • नौ कंडवारे, एक कुल्हड़ और एक दीपक
  • दही, राबड़ी, चावल (ओलिया), पुआ, पकौड़ी, नमक पारे, रोटी, शक्कर पारे,भीगा मोठ, बाजरा- प्रसाद के लिए
  •  थाली में रोली, चावल, मेहंदी, काजल, हल्दी, लच्छा (मोली), वस्त्र, होली वाली बड़कुले की एक माला और सिक्के.
  •  आम के पत्तों के साथ जल का कलश.
  • आटे का दिया, रुई की बत्ती और शुद्ध देसी घी.
  • . हल्दी और पानी टीके के लिए.
  •  पूजा के लिए पीतल या फूल की थाली

शीतला सप्तमी पूजा सामग्री लिस्ट (Sheetala Saptami Puja Vidhi Samagri List) 

  • रोली, कुमकुम, मेहंदी, हल्दी, अक्षत, मौली, वस्त्र, दक्षिणा, फूल
  • दही, ठंडा दूध, होली के बड़कुले, जल से भरा कलश,  
  • घी, आटे का दीपक, व्रत कथा की पुस्तक
  • प्रसाद (व्रत से एक दिन पहले रात में बनाया जाता है)-  मीठा भात (ओलिया), चूरमा, मगद, खाजा, नमक पारे, शक्कर पारे, बेसन चक्की, पुए, पकौड़ी,राबड़ी, बाजरे की रोटी, पूड़ी, कंडवारे, चने की दाल 

Also Read: शीतला माता की कहानी

शीतला सप्तमी पूजा में क्या नहीं करना चाहिए (What not to Do During Sheetala Saptami Puja) 

  • इस दिन बिल्कुल घर में  चूल्हा नहीं जलाना चाहिए। 
  • इस दिन बासी भोजन ही करना चाहिए
  • ।मां शीतला को ताजा भोजन का बिल्कुल भी भोग न लगाएं, बल्कि शीतला सप्तमी के दिन  बनाया गया भोजन भोग के रूप में अर्पित करें
  •  घर में झाड़ू लगाने की मनाही होती है।
  • शीतला सप्तमी के दिन नए कपड़े या फिर डार्क कलर के कपड़े पहनने से बचना चाहिए।  
  •  इस दिन भूल से भी मांस-मदिरा का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। 
  • मान्यताओं के अनुसार, शीतला अष्टमी के दिन सुई में धागा नहीं डालना चाहिए और न ही सिलाई करनी चाहिए।
  •  शीतला सप्तमी और अष्टमी के दिन लहसुन-प्याज जैसे तामसिक चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए। 
  • शीतला सप्तमी और अष्टमी के दिन पशु-पक्षियों को बिल्कुल भी परेशान नहीं करना चाहिए

शीतला सप्तमी पूजा मंत्र (Sheetala Saptami Puja Mantra)

शीतले त्वं जगन्माता शीतले त्वं जगत्पिता।

शीतले त्वं जगद्धात्री शीतलायै नमो नमः।। 

ॐ ह्रीं श्रीं शीतलायै नमः” 

वन्देऽहंशीतलांदेवीं रासभस्थांदिगम्बराम्। 

मार्जनीकलशोपेतां सूर्पालंकृतमस्तकाम्।।  

श्रीं शीतलायै नम:’ 

– ‘ॐ ह्रीं श्रीं शीतलायै नम:’

– ‘वन्देऽहं शीतलां देवीं रासभस्थां दिगम्बरराम्‌, 

मार्जनीकलशोपेतां शूर्पालंकृतमस्तकाम्‌।’

-‘शीतले त्वं जगन्माता, शीतले त्वं जगत् पिता।

शीतले त्वं जगद्धात्री, शीतलायै नमो नमः’।

शीतला सप्तमी पूजन विधि मंत्र (Mantra For Sheetala Saptami Puja)

 शीतला सप्तमी पूजा के दौरान जवाब माता शीतला की पूजा करेंगे तो आपको विशेष प्रकार के पूजन संबंधित विधि मंत्र का उच्चारण करना होगा तभी जाकर आपकी पूजा सफल मानी जाएगी जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं:-

शीतले त्वं जगन्माता शीतले त्वं जगत्पिता।

शीतले त्वं जगद्धात्री शीतलायै नमो नमः।।

ध्यायामि शीतलां देवीं, रासभस्थां दिगम्बराम्।

मार्जनी-कलशोपेतां शूर्पालङ्कृत-मस्तकाम्।।

शीतला: तू जगतमाता, शीतला: तू जगतपिता, शीतला: तू जगदात्री, शीतला: नमो नम:॥”

शीतला सप्तमी की पूजा विधि (Sheetala Saptami Puja Vidhi)

  • सुबह जल्दी उठकर गर्म पानी में नीम की पत्तियां डालकर स्नान करें और साफ कपड़े पहनें। 
  • साफ कपड़े पहनकर मां शीतला की पूजा करें।
  • शीतला माता को दही, रोटी, बाजरा, मीठे चावल, नमक और मठरी (एक प्रकार का नाश्ता) का भोग लगाएं।
  • इसके अलावा पूजा की थाली में आटे का दीपक, रोली, वस्त्र, अक्षत, हल्दी, मोली, सिक्के और मेहंदी रखें ।
  • Perform puja and worship Sheetla Mata.
  • पूजा के दौरान माता को मेहंदी और कलावा सहित सभी सामग्रियां अर्पित करें।
  • अंत में जल अर्पित करें और थोड़ा जल बचाकर रखें।
  • इस जल को परिवार के सभी सदस्यों की आंखों पर लगाएं और बचा हुआ घर के हर हिस्से में छिड़कें।
  • यदि कोई पूजा सामग्री बच जाए तो उसे किसी ब्राह्मण को दान कर दें।

शीतला सप्तमी पूजन विधि PDF (Sheetala Saptami Pujan Vidhi) 

शीतल सप्तशती पूजा विधि का पीडीएफ अगर आप प्राप्त करना चाहते हैं तो आर्टिकल में उसकी पीडीएफ हम आपको उपलब्ध करवाएंगे जिसे आप आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

शीतला सप्तमी पूजा विधि मंत्र सहित (Sheetala Saptami Puja Vidhi With Mantra PDF ) 

शीतल सप्तमीपूजा विधि मंत्र सहित पीडीएफ का पूरा विवरण हम आपको आर्टिकल में उपलब्ध करवाएंगे जिसे आप आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं ताकि आपको शीतल सप्ताह की पूजा करने में मदद मिल सके।

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी अहम सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक के लिए धन्यवाद

FAQ’s:

Q. शीतला सप्तमी के दिन क्या क्या बनाते हैं? 

Ans. शीतला सप्तमी के दिन मां शीतला को भोग लगाने के लिए मीठे चावल और   चने की दाल भी बनाएं।  इस दिन स्नान करने के बाद होलिका दहन वाली जगह पर आटे के दीपक में घी की बाती लगाकर जलाएं। इसके बाद मीठे चावल चने की दाल और हल्दी आदि को भोग के रूप में शीतला माता को अर्पित करें।

Q. शीतला माता को जल चढ़ाने से क्या होता है?

Ans. माता को शीतल जल चढ़ाने से भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती है। 

Q. शीतला माता को कौन सा रंग पसंद है?

शीतलामाता को ठंडी चीजें पसंद है. इसलिए शीतला सप्तमी के दिन देवी मां की मूर्ति पर भी ठंडा पानी जरूर अर्पित करें इसके अलावा   इस दिन नारंगी रंग के वस्त्र पहनकर अगर आप माता की पूजा करते हैं तो माता बहुत ज्यादा प्रसन्न हो जाएंगे

Q शीतला माता की पूजा घर पर कैसे करें?

Ans. शीतला माता की पूजा घर पर भी आप कर सकते हैं उसके लिए आपको सबसे पहले. आप एक कलश में जल, हल्दी, कुमकुम, अक्षत, फूल, सिन्दूर, मेहंदी, काजल, लाल चुनरी, कलावा, केला, नारियल आदि भी चढ़ाएं। गेहूं के आटे से बना दीपक जलाएं और सरसों के तेल/घी का  का प्रयोग दीपक जलाने के लिए करेंगे अभी जाकर माता प्रसन्न होंगे

Q. शीतला सप्तमी पूजा कब मनाया जाएगा? 

Ans. शीतला सप्तमी पूजा 2 अप्रैल 2024 को मनाया जाएगा।

Leave a Comment