Sudha Murthy Biography in Hindi: सुधा मूर्ति कौन है? उनकी जीवनी पढ़ें

Sudha Murthy Biography in Hindi: मदर टेरेसा, कल्पना चावला, सरोजिनी नायडू और कई अन्य महिलाएं भारतीय समाज के लिए प्रेरणा का प्रतीक रही हैं। आज महिलाओं ने समाज का उत्थान किया है और हमारे राष्ट्र के विकास में उनका योगदान  रहा है। ऐसी ही एक महिला हैं जिनका योगदान हमारे देश के लोगों के लिए उल्लेखनीय रहा है। वह हैं सुधा मूर्ति   सुधा मूर्ति को हल के दिनों में राष्ट्रपति के द्वारा राज्यसभा का सदस्य मनोनीत किया गया है सुधा मूर्ति ने कई क्षेत्रों में कई प्रकार के सामाजिक सुधार भी की है। जिसके लिए उन्हें कई प्रकार के पुरस्कार से सम्मानित की भी किया गया हैं। उन्हें सरकार के द्वारा पदम भूषण अवार्ड भी मिला हैं। ऐसे में हर एक व्यक्ति आज के समय सुधा मूर्ति के जीवन परिचय के बारे में जानना चाहता है कि सुधा मूर्ति कौन है,

इसलिए आज के लेख में Sudha Murthy Jeevan Parichay से जुड़ी सभी जानकारी जैसे-Sudha Murthy latest news) about sudha murthy) Sudha Murthy Biography) who is Sudha murthy) Sudha Murthy early life) Sudha Murthy childhood) Sudha Murthy life story) Sudha Murthy family) Sudha murthy and Narayan Murthy) (Sudha Murthy Marriage) Sudha Murthy infosys) के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी आपको प्रदान करेंगे आर्टिकल पर बने रहिएगा आईए जानते हैं-

सुधा मूर्ति की जीवनी | Sudha Murthy Biography – Overview

आर्टिकल का प्रकारजीवन परिचय
आर्टिकल का नामसुधा मूर्ति का जीवन परिचय
साल कौन सा है2024
आर्टिकल भाषा कौन सी हैहिंदी
सुधा मूर्ति का जन्म कहां हुआ हैभारत के कर्नाटक में हुआ है
जन्मतिथि19 अगस्त 1950
उम्र कितनी है2024 के मुताबिक 74 साल

सुधा मूर्ति नवीनतम समाचार (Sudha Murthy Latest News)

लेखिका और परोपकारी सुधा मूर्ति को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है। सुश्री मूर्ति को बधाई देते हुए, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राज्यसभा में उनकी उपस्थिति देश की ‘नारी शक्ति’ का एक शक्तिशाली प्रमाण है क्योंकि यह घोषणा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर हुई थी। 

सुधा मूर्ति के बारे में (About Sudha Murthy)

सुधा मूर्ति – विकिपीडिया: सुधा मूर्ति एक सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका हैं। उस समय एक इंजीनियर के रूप में प्रशिक्षण प्राप्त किया जब महिलाएं इस क्षेत्र में बहुत कम प्रवेश करती थीं, उन्होंने अपने पूरे शैक्षणिक करियर में प्रथम रैंक हासिल की। एक इंजीनियर के रूप में काम करने के बाद, सुधा मूर्ति कंप्यूटर विज्ञान की शिक्षिका और एक सामाजिक कार्यकर्ता बन गईं। बाद में उन्होंने इंफोसिस फाउंडेशन की स्थापना की और अब इसकी अध्यक्ष के रूप में कार्य करती हैं। सुधा मूर्ति ने स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, आपदा राहत, महिला और युवा सशक्तिकरण और अनाथ देखभाल में सुधार के लिए कई कार्यक्रमों को सफलतापूर्वक शुरू और संचालित किया है।उन्होंने व्यक्तिगत रूप से युद्ध विधवाओं, शिक्षा छात्रवृत्ति, स्वच्छता और कला को लाभान्वित करने वाले कार्यक्रमों में भी योगदान दिया है। एक प्रसिद्ध लेखिका, सुधा मूर्ति ने सोलह भारतीय भाषाओं में प्रकाशित नब्बे से अधिक शीर्षक प्रकाशित किए हैं। सुधा मूर्ति को राज्य, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार प्राप्त हुए हैं, जिनमें प्रतिष्ठित पद्मश्री पुरस्कार, राज्यप्रशस्ति और भारत भर के विश्वविद्यालयों से छह डॉक्टरेट शामिल हैं।

सुधा मूर्ति जीवनी (Sudha Murthy Biography)

नामसुधा मूर्ति
सुधा मूर्ति पेशालेखक
सुधा मूर्ति पति का नामएनआर नारायण मूर्ति
सुधा मूर्ति उम्र72 वर्ष
सुधा मूर्ति जन्म तिथि19 अगस्त 1950
सुधा मूर्ति राशि चिन्हलियो
सुधा मूर्ति जन्मस्थानशिगांव, कर्नाटक
सुधा मूर्ति की ऊंचाई5.2 फीट
सुधा मूर्ति वजन75 किग्रा
सुधा मूर्ति उल्लेखनीय कार्यमैंने अपनी दादी को कैसे पढ़ना सिखाया
सुधा मूर्ति कुल पुस्तकें6
सुधा मूर्ति नेट वर्थ775 करोड़ रुपये
इंस्टाग्राम अकाउंट@sudha_murthy_official

कौन हैं सुधा मूर्ति (Who is Sudha Murthy)

Sudha Murthy Kon Hai? सुधा मूर्ति एक प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष हैं। सुधा मूर्ति के पति श्री नारायण मूर्ति प्रसिद्ध सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस टेक्नोलॉजीज के संस्थापक और उद्योगपति हैं।सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 को उत्तरी कर्नाटक के शिवांग में हुआ था। शादी से पहले उनका नाम सुधा कुलकर्णी था। उनकी माता का नाम विमला कुलकर्णी और पिता का नाम डॉ. आरएच कुलकर्णी था।

यह भी पढ़ें: पंकज उधास, पढ़े उनकी जीवनी और उनके परिवार, शादी, मौत के कारण के बारे में

सुधा मूर्ति का प्रारंभिक जीवन (Sudha Murthy Early Life)

Sudha Murthy Wikipedia: 19 अगस्त 1950 को सुधा मूर्ति का जन्म कर्नाटक के शिगगांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

उनके पिता डॉ. आरएच कुलकर्णी, जो एक सर्जन थे और उनकी मां विमला कुलकर्णी ने बचपन से ही उनके प्रयासों में उनका समर्थन किया और अपने तीन भाई-बहनों के साथ युवा सुधा का पालन-पोषण किया।

बचपन में अपने परिवार के निरंतर समर्थन के साथ, सुधा मूर्ति ने अपरंपरागत करियर इंजीनियर का विकल्प अपनाए जो लड़कियों के बीच लोकप्रिय नहीं थे। उसे जमाने में कोई भी लड़की इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपना कैरियर नहीं बनना चाहती थी क्योंकि लोग उसे खराब मानते थे।  परिवार में शिक्षित माहौल ने उनमें कम उम्र में ही कुछ असाधारण करने का जुनून पैदा कर दिया।सुधा मूर्ति के भाई श्रीनिवास कुलकर्णी एक प्रसिद्ध खगोलशास्त्री हैं जिन्हें 2017 में डैन डेविड पुरस्कार मिला था। 

सुधा मूर्ति का बचपन (Sudha Murthy Childhood)

सुधा मूर्ति का बचपन सादगी, करुणा और सीखने की इच्छा से भरा था। उनका जन्म 19 अगस्त, 1950 को शिगगांव, कर्नाटक, भारत में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था, जिसने उनमें विनम्रता और दूसरों के लिए सहानुभूति के मजबूत मूल्यों को विकसित किया। सुधा ने किताबों और शिक्षा में प्रारंभिक रुचि दिखाई, अक्सर खुद को साहित्य की दुनिया में डुबो दिया। उसके माता-पिता ने उसे सीखने के अपने प्यार को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया और उसके शैक्षणिक प्रयासों का समर्थन किया।

सुधा मूर्ति की कहानी (Sudha Murthy Life Story)

मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 को कर्नाटक के एक गांव शिगगांव में विमला कुलकर्णी और डॉ. आरएच कुलकर्णी के घर हुआ था। उनके पिता एक सर्जन और स्थानीय विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे, जबकि उनकी माँ एक स्कूल शिक्षिका थीं। उनका पालन-पोषण उनके तीन भाई-बहनों के साथ उनकी माँ, पिता और नाना-नानी ने किया, जिन्होंने उनके लेखन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित किया।

मध्यमवर्गीय परिवार बेहद शिक्षा-उन्मुख था और उसने सुधा को उसके सभी शैक्षणिक प्रयासों में समर्थन दिया। नतीजा यह हुआ कि एक युवा महिला ने बीवीबी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग के तत्कालीन पुरुष-प्रधान क्षेत्र में पढ़ाई की। यह कॉलेज अब केएलई टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के नाम से जाना जाता है। बाद में, उन्होंने 1974 में भारतीय विज्ञान संस्थान से कंप्यूटर साइंस में मास्टर कोर्स पूरा किया ।  उन्होंने स्नातक और स्नातकोत्तर डिग्री में टॉपर किया था।  जिसके कारण उन्हें उसे समय के कर्नाटक के तत्कालीन मुख्यमंत्री के द्वारा स्वर्ण पदक भी दिया गया था। उन्होंने अपने पति नारायण मूर्ति का हर कदम पर साथ दिया है इंफोसिस कंपनी की स्थापना में उनका योगदान महत्वपूर्ण है उनके द्वारा दिए गए पैसे से ही कंपनी की शुरुआत हुई थी और आज के समय इंफोसिस दुनिया की एक मशहूर आईटी कंपनियों में से एक हैं। सुधा मूर्ति ने कन्नड़ और अंग्रेजी भाषा में कई पुस्तक भी लिखी हैं वह एक अच्छी लेखिका भी हैं इसके लिए उन्हें कई पुरस्कार भी दिए गए हैं हाल फिलहाल में उन्हें राज्यसभा में मनोनीत किया गया है।

सुधा मूर्ति परिवार (Sudha Murthy Family)

पिता काआरएच कुलकर्णी
माता का नामविमला कुलकर्णी
पति का नामएनआर नारायण मूर्ति
बच्चों का नामरोहन और 

सुधा मूर्ति और नारायण मूर्ति (Sudha murthy and Narayan Murthy) 

सुधा मूर्ति और नारायण मूर्ति की प्रेम कहानी से कई जोड़े प्रेरित हो सकते हैं। 10 फरवरी, 1978 को शादी करने से पहले इस जोड़े ने चार साल तक डेट किया। सुधा उस समय टेल्को की पुणे शाखा में काम कर रही थीं, और नारायण के परिचित प्रसन्ना भी वहां प्रशिक्षण ले रहे थे। नारायण ने प्रसन्ना के माध्यम से सुधा और उसके दोस्तों को एक शाम पुणे के ग्रीन फील्ड्स होटल में रात के खाने के लिए आमंत्रित किया था। पहले वह जाने से झिझक रही थी क्योंकि समूह में वह अकेली लड़की थी, लेकिन नारायण ने  सुधा मूर्ति को मना लिया।शादी से पहले जब भी वे पुणे में किसी रेस्तरां या मूवी थिएटर में जाते थे, तो सुधा अपने पैसे का सटीक रिकॉर्ड रखती थीं।

जब वे बाहर खाना खाने जाते थे तो बिल बराबर-बराबर बांट लेते थे। हालाँकि, कभी भी नारायण के पास अपने हिस्से का भुगतान करने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं होते थे, सुधा इसका भुगतान करती थी और अपनी नोटबुक में नोट कर लेती थी। सुधा इस प्रकार नारायण की सहायता के लिए गई थी।सुधा के पिता शुरू में नारायण के सुधा से शादी करने के प्रस्ताव के विरोध में थे क्योंकि नारायण एक शोध सहायक के रूप में ज्यादा पैसा नहीं कमा रहे थे। सुधा के पिता ने बाद में नारायण से शादी करने के अनुरोध को मंजूरी दे दी जब उन्होंने 1977 के अंत में पाटनी कंप्यूटर्स में महाप्रबंधक के रूप में काम करना शुरू किया। उनकी शादी की पूरी लागत रु। 800, जो सुधा और मूर्ति के बीच विभाजित किया गया था। सुधा मूर्ति नारायण मूर्ति का रिश्ता काफी मजबूत और मधुर है इंफोसिस कंपनी की स्थापना में सुधा मूर्ति की भूमिका काफी महत्वपूर्ण रही थी कि उन्होंने अपने हस्बैंड को ₹10000 का कर्ज दिया था तभी जाकर इंफोसिस कंपनी की शुरुआत हुई थी।

यह भी पढ़ें: होलिका दहन का शुभ मुहूर्त, पूजन सामग्री के बारे में जानें

सुधा मूर्ति विवाह (Sudha Murthy Marriage)

सुधा के परिवार से कई अस्वीकृतियों का सामना करने के बावजूद, नारायण मूर्ति के संयुक्त राज्य अमेरिका में एक परियोजना के लिए प्रस्थान करने से ठीक पहले, 1978 में इस प्रेमी जोड़े ने एक-दूसरे को वचन दिए। उनकी शादी एक साधारण समारोह थी जिसमें करीबी दोस्त और परिवार के सदस्य शामिल हुए थे और उस समय, सुधा मूर्ति एक इंजीनियर के रूप में काम करती थीं।

सुधा मूर्ति बच्चे (Sudha Murthy Children)

सुधा मूर्ति के दो बच्चे हैं जिनका नाम रोहन और अक्षय हैं। उनके बेटी का विवाह ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक के साथ हुआ हैं। उनके बेटे रोहन मूर्ति हार्वर्ड विश्वविद्यालय से कंप्यूटर विज्ञान में पीएचडी, मूर्ति ने 2014 में अर्जुन नारायण और जॉर्ज निचिस के साथ सोरोको की सह-स्थापना की। सोरोको एक कार्य ग्राफ कंपनी है जो यह खोजती है कि दुनिया कैसे काम करती है टीमों को सर्वश्रेष्ठ बनने में मदद  करने का काम करती हैं।

सुधा मूर्ति की उपलब्धियां (Sudha Murthy Achievements)

सुधा मूर्ति ने एम.टेक की पढ़ाई पूरी करने के बाद इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियर्स से इंजीनियरिंग की सभी श्रेणियों में प्रथम रैंक हासिल कर स्वर्ण पदक अर्जित किया। कर्नाटक के सभी इंजीनियरिंग विश्वविद्यालयों में बीई में सर्वोच्च अंक हासिल करने के लिए उन्हें कराटेका के मुख्यमंत्री से स्वर्ण पदक मिला। उन्हें इंजीनियरिंग में उत्कृष्ट छात्रा होने के लिए कर्नाटक सरकार से युवा सेवा विभाग पुरस्कार मिला। समाज सेवा के प्रति उनके समर्पण के लिए उन्हें पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया से राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। साहित्य और सामाजिक कार्यों में उपलब्धि के लिए उन्हें कर्नाटक राज्योत्सव राज्य पुरस्कार 2000 मिला। उन्हें आईआईटी कानपुर द्वारा डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि से सम्मानित किया गयाउनकी उपलब्धियों में कई भाषाओं के साहित्यिक कार्यों की सूची शामिल है। शुरुआत में उन्होंने कन्नड़ में लिखना शुरू किया और बाद में अंग्रेजी में भी लिखा। वे सभी परिवार, विवाह, सामाजिक समस्याओं आदि के बारे में हैं। उन्हें अपनी उपलब्धियों के लिए कई पुरस्कार और विशिष्टताएँ प्राप्त हुई हैं, जिनमें साहित्य के लिए आरके द नारायण पुरस्कार भी शामिल हैं। 

सुधा मूर्ति इंफोसिस (Sudha Murthy Infosys)

इंफोसिस कंपनी के निर्माण में सुधा मूर्ति की भूमिका अहम है क्योंकि उन्होंने अपने पति नारायण मूर्ति को ₹10000 दिए थे तभी जाकर इंफोसिस कंपनी की शुरुआत हुई थीं। उसके बाद ही इंफोसिस कंपनी को शुरू किया गया जिसके बाद नारायण मूर्ति ने ने दिन रात कड़ी मेहनत और परिश्रम से इंफोसिस कंपनी के बिजनेस का विस्तार दुनिया में किया और उनके इस प्रयास में उनकी पत्नी सुधा मूर्ति की भूमिका अहम है उन्होंने हर समय ध्यान मूर्ति का समर्थन किया था।

यह भी पढ़ें: होली के पर्व पर शुभकामनाएं के साथ बिखेरे खुशियों के रंग

सुधा मूर्ति तस्वीरें (Sudha Murthy Photos)

सुधा मूर्ति की तस्वीर अगर आप प्राप्त करना चाहते हैं तो आप सोशल मीडिया या इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं जहां पर आपको सुधा मूर्ति की तस्वीर आसानी से मिल जाएंगे 

सुधा मूर्ति ट्रेन कहानी (Sudha Murthy Train Story)

गलुरु जा रही एक ट्रेन में टिकट चेकर की नजर एक सीट के नीचे दुबकी हुई ग्यारह-बारह साल की एक लड़की पर पड़ी और उसने उसे टिकट दिखाने के लिए कहा। लड़की रोते हुए बाहर निकली और कहा कि उसके पास टिकट नहीं है। टिकट चेकर ने उसे डांटते हुए गाड़ी से नीचे उतरने को कहा। तभी वहीं मौजूद एक महिला ने दखल दिया, ‘इस लड़की का बेंगलुरु तक का टिकट बना दो इसके पैसे मैं दे देती हूं।’टिकट चेकर ने कहा, ‘मैडम, टिकट बनवाने के बजाय इसे दो-चार रुपये दे दो तो ये ज्यादा खुश होगी।’ लेकिन महिला ने लड़की का टिकट ले लिया। महिला ने लड़की से पूछा कि वह कहां जा रही है तो उसने कहा कि पता नहीं मेम साब। लड़की ने अपना नाम चित्रा बताया। महिला उसे बेंगलुरु ले गई और जान-पहचान की एक स्वयंसेवी संस्था को सौंप दिया। चित्रा वहां रहकर पढ़ाई करने लगी। महिला उसका हालचाल पता करती और उसकी मदद भी करती रहती थी लगभग बीस साल बाद महिला को अमेरिका के सेन फ्रांसिस्को में एक कार्यक्रम में बुलाया गया। कार्यक्रम के बाद वह जब अपना बिल देने के लिए रिसेप्शन पर आई तो पता चला कि उनके बिल का भुगतान सामने बैठे एक दंपती ने कर दिया है। महिला उस दंपती की तरफ मुड़ी और उनसे पूछा, ‘आप लोगों ने मेरा बिल क्यों भर दिया?’ युवती ने कहा, ‘मैम, गुलबर्गा से बैंगलुरु तक के टिकट के सामने यह कुछ भी नहीं है।’महिला ने ध्यानपूर्वक देखा और कहा, ‘अरे चित्रा, तुम’। यह महिला कोई और नहीं, इन्फोसिस फाउंडेशन की चेयरपर्सन सुधा मूर्ति थीं। ऐसी मदद को ही वास्तविक मदद कहा जा सकता है जो किसी के जीवन को बदल डाले। जो लोग दूसरों की मदद करने का ऐसा जज्बा रखते हैं, वे स्वयं जीवन में कहां से कहां पहुंच जाते हैं, इसकी भी सीमा नहीं।

सुधा मूर्ति सामाजिक कार्य (Sudha Murthy Social Work)

सुधा मूर्ति इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष और ट्रस्टी भी हैं। भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री के साथ, उन्होंने 1996 में इंफोसिस फाउंडेशन की शुरुआत की।

  • उन्होंने फाउंडेशन के जरिए बाढ़ प्रभावित इलाकों में 2300 घर बनाए हैं।
  • वह सार्वजनिक स्वच्छता, स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, कला और संस्कृति और गरीबी उन्मूलन को भी कवर करती हैं।
  • उन्होंने स्कूलों में 7000 पुस्तकालय और 16,000 शौचालय बनवाए हैं। 
  • वर्ष 1996 में सुधा मूर्ति ने एक पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट की स्थापना की।
  • अब तक, ट्रस्ट कई बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जरूरतमंद लोगों के लिए लगभग 2,300 घर बनाने में कामयाब रहा है।

सुधा मूर्ति नेट वर्थ (Sudha Murthy Net Worth)

सुधा मूर्ति की कुल संपत्ति कितनी है तो इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार उनके पास 7.76 बिलियन डॉलर की संपत्ति हैं।  जिसमें उनकी किताबों और लघु कथाओं के साथ-साथ इंफोसिस फाउंडेशन से होने वाली आय भी शामिल है।

सुधा मूर्ति प्रेरक कोट्स (Sudha Murthy motivational Quotes)

जदगी एक ऐसी परीक्षा है जहां पाठ्यक्रम का पता नहीं होता और प्रश्नपत्र भी निर्धारित नहीं होते। न ही मॉडल उत्तर पुस्तिकाएं हैं

आमतौर पर, जो लोग संवेदनशील होते हैं उन्हें वास्तविक दुनिया को समझने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है।

पैसा एक ऐसी चीज़ है जो शायद ही कभी लोगों को जोड़ती है और ज़्यादातर लोगों को विभाजित करती हैं।

क्रिया के बिना दृष्टि केवल एक सपना है। बिना दूरदर्शिता के कार्य करना केवल समय व्यतीत करना है। लेकिन दृष्टि और कार्य मिलकर दुनिया को बदल सकते हैं।

एक आग को दूसरी आग से नहीं बुझाया जा सकता। यह केवल पानी ही है जो बदलाव ला सकता हैं।

सुधा मूर्ति प्रेरणादायक उद्धरण (Sudha Murthy Inspirational Quotes)

मैं हर दिन काम करता हूं, लेकिन मेरे लिए हर दिन छुट्टी है क्योंकि मैं अपने काम का आनंद लेता हूं। 

जब राजेश खन्ना की मृत्यु हुई तो मैं बहुत रोई, मेरे पति भ्रमित हो गए। 

वित्तीय स्वतंत्रता की ओर ले जाने वाली शिक्षा ने निश्चित रूप से महिलाओं को और अधिक सशक्त बना दिया है। 

जीवन एक परीक्षा है जहां पाठ्यक्रम अज्ञात है और प्रश्न पत्र निर्धारित नहीं हैं। न ही मॉडल उत्तर पत्र हैं।” 

हमें जीवन में हमेशा कुछ लक्ष्य रखना चाहिए जिसे हमें दूसरों की मदद करते हुए हासिल करने का प्रयास करना चाहिए।”

अमीर हो या गरीब, अपना काम करना और फिट रहना अच्छी बात है।”

पैसे को लेकर एकजुटता कम और विभाजन ज़्यादा है। 

वर्ग का अर्थ धन का विशाल कब्ज़ा नहीं है”।

आमतौर पर, जो लोग संवेदनशील होते हैं उन्हें वास्तविक दुनिया को समझने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है।”

अच्छे रिश्ते, करुणा और मन की शांति उपलब्धियों, पुरस्कारों, डिग्रियों या पैसों से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।”

“यदि आप हर किसी को खुश करने की कोशिश करते हैं, तो आप किसी को भी खुश नहीं करेंगे। दूसरों की खुशी के लिए अपना जीवन जीना असंभव है।”

“जीवन में सभी विलासिता में से, सबसे बड़ी विलासिता सही प्रकार की स्वतंत्रता प्राप्त करना है।”

“अपने बच्चों को जीवन में दो चीज़ें दें: मजबूत जड़ें और शक्तिशाली पंख।”

पुरुष कुछ चीजें कर सकते हैं और महिलाएं अन्य चीजें। पुरुष और महिलाएं एक-दूसरे के पूरक हैं। किसी को अपनी ताकत साबित करने की जरूरत नहीं है।”

अच्छे रिश्ते, करुणा और मन की शांति उपलब्धियों, पुरस्कारों, डिग्रियों या पैसों से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।”

“यदि आप हर किसी को खुश करने की कोशिश करते हैं, तो आप किसी को भी खुश नहीं करेंगे। दूसरों की खुशी के लिए अपना जीवन जीना असंभव है।”

“जीवन में सभी विलासिता में से, सबसे बड़ी विलासिता सही प्रकार की स्वतंत्रता प्राप्त करना है।”

“अपने बच्चों को जीवन में दो चीज़ें दें: मजबूत जड़ें और शक्तिशाली पंख।”

सुधा मूर्ति के उद्धरण (Quotes By Mudha Murthy)

एक पुरुष और एक महिला का सबसे अच्छा दोस्त कौन है?” उत्तर है: “एक पत्नी अपने पति से और एक पति अपनी पत्नी से। 

“संघर्ष ही जीवन है।”

“जंग लगने से घिस जाना बेहतर है।”

“सादगी ही अंतिम सत्य है। सच्ची सुंदरता सादगी में ही निहित है।”

“जो तुम्हें पसंद है वो करना आज़ादी है, जो तुम्हें पसंद है वो करना ख़ुशी है। 

“एक आग को दूसरी आग से नहीं बुझाया जा सकता। केवल पानी ही है जो बदलाव ला सकता है।”

“शादी के बाद का जीवन संघर्षमय है। केवल कुछ ही लोग वास्तव में भाग्यशाली होते हैं। 

“एक सच्चा नेता स्नेह से नेतृत्व करता है, शक्ति से नहीं।”

“जब लो तो दो; बिना दिए कभी मत लो।”

“हम सभी अपने जीवन में कुछ लड़ाइयाँ हारते हैं, लेकिन हम युद्ध जीत सकते हैं।”

“परीक्षण करने पर बदसूरत बत्तखें अक्सर सुंदर हंसों में बदल जाती हैं।”

सुधा मूर्ति के उपन्यास (Novels by Sudha Murthy)

1. मदर आई नेवर नो: दो उपन्यास
2. खोए हुए मंदिर का जादू
3. मैंने अपनी दादी को कैसे पढ़ना सिखाया: और अन्य कहानियाँ
4. बुद्धिमान और अन्यथा: जीवन को सलाम
5. जादुई ढोल और अन्य पसंदीदा कहानियाँ
6. तीन हजार टाँके: साधारण लोग, असाधारण जीवन
7. दादी माँ की कहानियों का थैला

सुधा मूर्ति परिवार की तस्वीरें (Sudha Murthy Family Photos)

सुधा मूर्ति के परिवार का तस्वीर अगर आप प्राप्त करना चाहते हैं तो आर्टिकल में हम उनके परिवार का तस्वीर उपलब्ध करवाएंगे जिसे आप चाहे तो डाउनलोड भी कर सकते हैं इसके अलावा आपको ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी सुधा मूर्ति के परिवार का तस्वीर मिल जाएगा जिसे खुद सुधा मूर्ति ने पोस्ट किया हैं।

सुधा मूर्ति पुस्तकों की सूची (Sudha Murthy Books List)

कन्नड़ पुस्तकें

  • कावेरी इंडा मेकांगीगे
  • गिरना
  • भाषण
  • Yashasvi
  • नूनिया सहसगलु
  • डॉलर कभी नहीं
  • गुटोंडु हेलुवे
  • गुटोंडु हेलुवे
  • अथिरिकथे
  • हक्किया तेराडाल्ली
  • Paridhi
  • येरिलिटाडा दारियाल्ली
  • कंप्यूटर लोकादल्ली
  • सुखेसिनी मट्टू इतारा मक्कला कथगेलु
  • समन्यरल्ली असमन्यारु
  • Astitva
  • Mahashweta

अंग्रेजी किताबें

  • वह माँ जिसे मैं कभी नहीं जानता था
  • यहाँ वहाँ सब जगह
  • खोए हुए मंदिर का जादू
  • जिस दिन मैंने दूध पीना बंद कर दिया
  • उलटा राजा
  • अंडे से निकला आदमी
  • जादुई ढोल और अन्य पसंदीदा कहानियाँ
  • बुद्धिमान और अन्यथा
  • स्वर्ग के रास्ते में कुछ हुआ
  • बकुला धीरे-धीरे गिरता है
  • ताश का घर
  • एक इच्छाधारी वृक्ष की बेटी
  • बूढ़ा आदमी और उसका भगवान
  • समुद्र खारा कैसे हो गया
  • खोए हुए मंदिर का जादू
  • सुनहरे पंखों वाला पक्षी
  • मैंने अपनी दादी को पढ़ना कैसे सिखाया और अन्य कहानियाँ
  • दादा-दादी की कहानियों का थैला
  • डॉलर बहू
  • तीन हजार टांके
  • एक कल्पित वृक्ष से बेटी
  • नागिन का बदला
  • दादी माँ की कहानियों का थैला 1

सुधा मूर्ति की आत्मकथा (Sudha Murthy Autobiography)

 सुधा मूर्ति का का जन्म भारत के कर्नाटक के छोटे से कस्बे शिगगाँव में    19 अगस्त 1950 को एक ऐसे परिवार में हुआ था जो शिक्षा और कड़ी मेहनत को महत्व देता था। सुधा के माता-पिता ने उसे अपने सपनों को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया और हालात विपरीत होने पर भी कभी उसका साथ नहीं छोड़ा।सुधा की सीखने की लगन और जिज्ञासु स्वभाव ने उन्हें हुबली में बीवीबी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किया। यहीं पर उनकी मुलाकात अपने भावी पति नारायण मूर्ति से हुई, जो बाद में उनके जीवन और परोपकार में भागीदार बने।अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, सुधा ने टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में अपना करियर शुरू किया। उस समय वह वहां काम करने वाली एकमात्र महिला थीं, लेकिन उन्होंने इसे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने से नहीं रोका। सुधा की कड़ी मेहनत और समर्पण जल्द ही रंग लाया और उन्हें  सीनियर सिस्टम एक्सपर्ट के पद पर प्रमोशन दिया गयाकॉर्पोरेट जगत में अपनी सफलता के बावजूद, उन्हें महसूस हुआ कि उनके जीवन में कुछ कमी है। वह और अधिक करना चाहती थी, दुनिया में सकारात्मक बदलाव लाना चाहती थी। इसलिए, 1996 में, उन्होंने इंफोसिस टेक्नोलॉजीज की परोपकारी शाखा, इंफोसिस फाउंडेशन की स्थापना की।फाउंडेशन के माध्यम से, सुधा ने स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा और ग्रामीण विकास पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने पूरे भारत में स्कूल, अस्पताल और सामुदायिक केंद्र बनाने के लिए अथक प्रयास किया, जिसके लिए उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक पद्म श्री अवार्ड भी दिया गया था।  उन्होंने 25 से अधिक किताबें भी लिखी हैं सुधा मूर्ति एक मशहूर लेखिका भी है।

सुधा मूर्ति के अनकहे तथ्यें (Sudha Murthy Unknown Facts)

  • सुधा मूर्ति का अभिनय में प्रवेश एक उल्लेखनीय मील का पत्थर साबित हुआ जब उन्होंने मराठी फिल्म पितृरून से शुरुआत की, जो उनके कन्नड़ उपन्यास, रुन का रूपांतरण था। उनकी भावना ने उन्हें भारत की सबसे बड़ी ऑटो निर्माता टाटा इंजीनियरिंग एंड लोकोमोटिव कंपनी (TELCO) में नियुक्त होने वाली पहली महिला इंजीनियर बनने के लिए प्रेरित किया। 
  • 29 साल की उम्र में, सुधा मूर्ति अपनी पहली पुस्तक, महाश्वेता प्रकाशित करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका चली गईं। उन्होंने अपनी यह पहली साहित्यिक कृति अपने पति को समर्पित की, जो उनके जीवन साथी और मित्र थे। 
  • अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने 1980 में नारायण मूर्ति से शादी करने से पहले कई वर्षों तक कंप्यूटर प्रोग्रामर के रूप में काम किया। 
  • 1980 के दशक की शुरुआत में, सुधा मूर्ति ने कंप्यूटर प्रौद्योगिकी में अच्छी तरह से पारंगत नहीं होने वाले व्यक्तियों के लिए कंप्यूटर इंटरैक्शन की सुविधा प्रदान करने के लिए एक उपयोगकर्ता-अनुकूल प्रोग्रामिंग भाषा बनाने की परियोजना शुरू की। यह प्रयास 1981 में इन्फोसिस की स्थापना में परिणित हुआ।
  •  सुधा की कुल संपत्ति रु. 775 करोड़, इंफोसिस शेयरों से उनकी अनुमानित आय रु. 5,384 करोड़. उनकी प्राथमिक आय का स्रोत किताबों और लघु कथाओं सहित उनके साहित्यिक कार्यों से प्राप्त रॉयल्टी और इंफोसिस फाउंडेशन के योगदान से है। 
  • टेल्को में अपने अंतिम दिन, सुधा की जेआरडी टाटा से महत्वपूर्ण मुलाकात हुई, जिन्होंने उन्हें वित्तीय सफलता हासिल करने के बाद समाज को वापस देने के लिए प्रोत्साहित किया।
  •  सुधा की माँ ने उसे अपने पति की जानकारी के बिना संभावित आपात स्थितियों के लिए पैसे बचाने की सलाह दी। इस दूरदर्शिता ने सुधा को रुपये का योगदान करने के लिए प्रेरित किया।
  •  इंफोसिस की स्थापना के लिए अपने पति को 10,000 रु . इंफोसिस फाउंडेशन की स्थापना से बहुत पहले से, सुधा मूर्ति धर्मार्थ कार्यों में शामिल थीं। जब वह छह साल की थीं, तब उन्होंने एक अंधे व्यक्ति को सड़क पार करने में मदद करके अपनी परोपकारी यात्रा शुरू की। दयालुता के इस शुरुआती कार्य ने दूसरों की मदद करने के लिए उनकी आजीवन प्रतिबद्धता के बीज बोए।
  •  सुधा मूर्ति को जानवरों से गहरा प्रेम है। वह आवारा कुत्तों और बिल्लियों को बचाने और उनकी देखभाल करने के लिए जानी जाती हैं। उसकी करुणा मनुष्यों से परे उन प्यारे दोस्तों तक फैली हुई है जो हमारी दुनिया को साझा करते हैं।

Conclusion: 

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में..!!

FAQ’s : Sudha Murthy Jivani in Hindi

Q.सुधा मूर्ति की कुल संपत्ति कितनी है?

Ans.सुधा मूर्ति की कुल संपत्ति लगभग 7.75 बिलियन डॉलर है।

Q. सुधा मूर्ति की उम्र कितनी है?

Ans. सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 को हुआ था और वह 71 वर्ष की हैं।

Q. सुधा मूर्ति की योग्यता क्या है?

सुधा मूर्ति ने बी.इंजी. पूरा किया। बीवीबी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में।

Q. कौन हैं सुधा मूर्ति?

भारतीय लेखिका, परोपकारी और सामाजिक कार्यकर्ता सुधा मूर्ति अपने प्रेरक लेखन और सामाजिक गतिविधियों के लिए प्रसिद्ध हैं।

Q. सुधा मूर्ति की कुछ उल्लेखनीय पुस्तकें क्या हैं?

“वाइज़ एंड अदर,” “द डे आई स्टॉप्ड ड्रिंकिंग मिल्क, “थ्री थाउज़ेंड स्टिचेस,” और “द मदर आई नेवर नो,” सुधा मूर्ति की कुछ प्रसिद्ध पुस्तकें हैं।

Leave a Comment